By | 29th May 2019

फखर है मुझे इस बात पे

तुझे कोई और भी चाहे ,
इस बात से दिल थोडा थोडा जलता है…

पर फखर है मुझे इस बात पे कि ,
हर कोई मेरी पसंद पे ही मरता है !!

फखर है मुझे इस बात पे

इस ‘दुनिया’ मे गुमसुम रास्ते

इस ‘दुनिया’ में
गुमसुम रास्ते की भी
एक अलग सी ‘दुनिया’ है.. जिसमें शामिल
तुम भी हो.. जिसमें शामिल
मैं भी हूँ.!”

इस 'दुनिया' में  गुमसुम रास्ते

इंतज़ार करना आता है…

“बरसती हुई
बूंदों का
मज़ा तो आता है.. इसके लिये, ‘नदी’ को
‘बादल’ के ‘बरसने’ का
‘जुलाई’ तक
इंतज़ार करना आता है…

इंतज़ार करना आता है…

कुछ तो बात कर लो

आऔ बैठो करीब मेरेे
कुछ तो बात कर लो..!!
मैं हूँ ख़ामोश अगर तो
तुम ही शुरुआत कर लो…

कुछ तो बात कर लो

इश्क भी शराब का नशा

ये इश्क भी शराब का नशा जैसा ही है यारो ,,,

करें तो मर जाएँ , और छोड़े तो किधर जाएँ …

इश्क भी शराब का नशा

कुछ लोगों की बात ही कुछ और होती

कुछ लोगों की बात ही कुछ और होती हैं । बीना देखें , बिना मिले, बिना बात किए, फिर भी उनसे बेहिसाब मोहब्बत हो जाती हैं ।

कुछ लोगों की बात ही कुछ और होती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *