Category: Truth poor line

Poverty Crush In Indian Politics

Poverty crush in Indian politics   एक खाली पेट लिये भटक रहा था , शहर की सड़को पर । अनेक लोगों ने मुस्कुराते हुए मेरे फटे मैले कपड़े देखे, लम्बी ढ़ाड़ी व उलझे लंबे बाल देखे। मेरे बिरादरी के ही कुछ लोगों…Read More »

गरीब आदमी कि दर्द

वृद्धाश्रमों में किस की “मां” चारों तरफ “जय माता दी-जय माता दी” छाई हुई है… फिर ये वृद्धाश्रमों में किस की “मां” आई हुई है …? फुटपाथ पर सो जाता कोई चादर समझ के खींच ना ले फिर से ‘ इसलिए मैं…Read More »

गरीब हू साहब Hindi best poem

गरीब हू साहब Hindi best poem गरीब हू साहब , बेईमान नहीं ,, अन्न के लिए भटकता हू , आवारा नहीं …… मैं भी बच्चा हू साहब , दूसरे बच्चों कि तरह ,, मगर मेरा बचपना , उनके बचपना कि तरह नहीं…Read More »