मीठे लोगों से मिलकर मैंने जाना

मीठे लोगों से मिलकर मैंने जाना

कड़वे लोग अक्सर सच्चे होते मीठे लोगों से मिलकर मैंने जाना … तीखे कड़वे लोग अक्सर सच्चे होते हैं…!! वक़्त से पहले कई हादसों से लडा वक़्त से पहले कई हादसों से लडा हूं … मै आपनी उम्र से कई साल बड़ा हूं… ‘मर्द जात’ तुझे तरक्की मुबारक औरत से लेके तुम तो बच्ची तक आ गए , ‘मर्द जात’ तुझे तरक्की मुबारक हो । खुद अपनी तलाश अगर , मगर और काश मैं हूँ ,.. मैं खुद अपनी तलाश में हूँ … दुःख देने वाला कभी सुखी नहीं दुःख…

Read More

जिंदगी की परीक्षा में नम्बर नहीं मिलते

जिंदगी की परीक्षा में नम्बर नहीं मिलते

आपको दिल में जगह दे दे जिंदगी की परीक्षा में कोई नम्बर नहीं मिलते ,, लोग आपको दिल में जगह दे दे , तो समझ लेना आप पास हो गये …. बच्चों को हम उपहार न दें बच्चों को हम उपहार न दें , तो वह कुछ समय के लिए रोएगा । मगर बच्चों को हम संस्कार न दें , तो वह जीवन भर के लिए रोयेगा । एक दूसरे को इंसानियत और प्रेम हमारे समाज को ज्यादा कुछ नहीं चाहिए । बस एक दूसरे को इंसानियत और प्रेम दे…

Read More

जिंदगी की दर्द तब समझ में आया

जिंदगी की दर्द तब समझ में आया

लोगो को समझ न आया जिंदगी की दर्द मुझे , तब समझ में आया ! जब साँस रुकने को थी , पर लोगो को समझ न आया । “घटा हादशा” इस वक्त “घटा हादशा” इस वक्त कौन वहाँ धुआं देखने जाए ,,, कल अख़बार में पढ़ लेंगे कहां आग लगी और कहाँ हादशा हुआ …….l ताकत दुआओं की दवाओं की ताकत परखता रहा उम्र भर ,,, मगर दंग रह गए देख कर लोग , ताकत दुआओं की …..l   ‘हजारों’ मील तक ‘फैला’ है समंदर अपनी ‘बेबसी’ किसी से कह…

Read More

हुमायूँ मुगल शासक

हुमायूँ मुगल शासक

हुमायूँ एक महान मुगल शासक थे। प्रथम मुग़ल सम्राट बाबर के पुत्र नसीरुद्दीन हुमायूँ (६ मार्च १५०८ – २२ फरवरी, १५५६) थे। यद्यपि उन के पास साम्राज्य बहुत साल तक नही रहा, पर मुग़ल साम्राज्य की नींव में हुमायूँ का योगदान है। बाबर की मृत्यु के पश्चात हुमायूँ ने १५३० में भारत की राजगद्दी संभाली और उनके सौतेले भाई कामरान मिर्ज़ा ने काबुल और लाहौर का शासन ले लिया। बाबर ने मरने से पहले ही इस तरह से राज्य को बाँटा ताकि आगे चल कर दोनों भाइयों में लड़ाई न…

Read More

समुद्रगुप्त गुप्त राजवंश

समुद्रगुप्त गुप्त राजवंश

समुद्रगुप्त (राज 335-380) गुप्त राजवंश के चौथे राजा और चन्द्रगुप्त प्रथम के उत्तरधिकरी थे। वे भारतीय इतिहास में सबसे बड़े और सफल सेनानायक में से एक माने जाते है। समुद्रगुप्त, गुप्त राजवंश के तीसरे शासक थे, और उनका शासनकाल भारत के लिये स्वर्णयुग की शुरूआत कही जाती है। समुद्रगुप्त को गुप्त राजवंश का महानतम राजा माना जाता है। वे एक उदार शासक, वीर योद्धा और कला के संरक्षक थे। उनका नाम जावा पाठ में तनत्रीकमन्दका के नाम से प्रकट है। उसका नाम समुद्र की चर्चा करते हुए अपने विजय अभियान…

Read More

अपनी सोच को थोड़ा बदल कर देखो

अपनी सोच को थोड़ा बदल कर देखो

मुझसे भी बुरे हैं लोग मेरे बारे में अपनी सोच को थोड़ा बदल कर देखो । मुझसे भी बुरे हैं लोग , कभी घर से बाहर निकल कर देखो !!! मैं बहुत अच्छा हूँ” “पहले मुझे लगता था कि मैं अच्छा हूँ , फिर मैंने अपने आप को zoom करके देखा , तो फिर मुझे पता चला कि मैं बहुत अच्छा हूँ”  !! लूट लो I love u बोलकर 100% डिस्काउंट चल रहा है मेरी मोहब्बत पर … लूट लो I love u बोलकर किसी और की होने से पहले…

Read More

मुझे नहीं पता मेरी आँखों को किसकी तलाश

मुझे नहीं पता मेरी आँखों को किसकी तलाश

मेरी नजरें थम सी जाती मुझे नहीं पता कि मेरी आँखों को किसकी तलाश है , बस तुम्हे देखते है तो मेरी नजरें थम सी जाती है !! अपने हाथों में हाथ लिए वो अपने हाथों में हाथ लिए “चलते” रहे मेरा …… उन्हें “रात” का डर था … मेरा डर था “सवेरा”… अपने दिल में बन्द कर लूँ मन करता , तुम्हें अपने दिल में बन्द कर लूँ । और चाभी समुद्र में फेंक दूँ … !!! तेरा मुस्कुराना भी मुसीबत है तेरा मुस्कुराना भी मुसीबत है , मैं…

Read More

मुझसे हर बार नज़रें चुरा लेती

मुझसे हर बार नज़रें चुरा लेती

देखा हैं आँखें उसकी मुझसे हर बार नज़रें चुरा लेती है वो !! मैंने कागज़ पर भी बना कर देखा हैं आँखें उसकी !!……!! ऐ चाँद चला जा क्यूँ आया ऐ चाँद चला जा क्यूँ आया है तू मेरी चौखट पर , . छोड़ गया वो शख्स जिस के धोखे में मैं तुम्हें देखा करता थे। हमे बेहद खूबसूरत लगेगी जिस रोज तेरे चाहने वालो को तू बेहद बुरी लगेगी , . ~ए मन~ . उस दिन भी तू हमे बेहद खूबसूरत लगेगी ! दिल पर कभी झुरियां नहीं पड़ती…

Read More

उस व्यक्ति की शक्ति का कोई मुकाबला नहीं

उस व्यक्ति की शक्ति का कोई मुकाबला नहीं

शक्ति के साथ सहनशक्ति उस व्यक्ति की शक्ति का कोई मुकाबला नहीं , जिसके पास शक्ति के साथ सहनशक्ति भी हो….. शीशा और पत्थर संग संग रहे शीशा और पत्थर संग संग रहे , तो बात नही घबराने की…..!! शर्त इतनी है कि बस दोनों ज़िद ना करे टकराने की…..!! रिश्ता होने से रिश्ता नहीं बनता, रिश्ता निभाने से रिश्ता बनता है। दिमाग”से बनाये हुए “रिश्ते” बाजार तक चलते है,,,! और दिल” से बनाये “रिश्ते” आखरी सांस तक चलते है अगर ग्लास दूध से भरा हुआ है अगर ग्लास दूध…

Read More

जिन्दगी की अजीब दास्ताँ हैं

जिन्दगी की अजीब दास्ताँ हैं

कुछ समझ में नहीं आता जिन्दगी की अजीब दास्ताँ हैं , यह क्या कहना चाहती हैं , कुछ समझ में नहीं आता कि मेरी उम्र 1 साल बढ़ गई या 1 साल घट गई !!! छोटा सा शब्द विश्वास छोटा सा शब्द पढने में ‘सेकंड लगता है सोचने मे “मिनट” लगता है समझने मे “दिन” लगता है और साबित करने मे पूरी जिन्दगी लग जाती है वो है…| विश्वास | खुशियाँ उधार देने का कारोबार हम तो खुशियाँ उधार देने का कारोबार करते हैं , साहब कोई वक़्त पे लौटाता…

Read More