Tag: sad hindi shayari

KASH WO SIRF MERI HOTI

YE KHUDA WO MERI HOTI ये खुदा, काश वो सिर्फ मेरी होती ,, या फिर वो मुझे, मेरी ज़िन्दगी में मिली ही ना होती … USE BHI ISHQ HAI खबर पक्की है “बॉस” … उसे भी इश्क है ,, क्या ? सचमुच…Read More »

DHUNDHTE DHUNDHTE MAINE EK UMAR GUJARI

MAINE EK UMAR GUJARI ढूँढते ढूँढते मैंनें एक उम्र गुजारी जिसको ,, एकाएक उसे सामने देखूँ , तो मैं पागल हो जाऊँ । MAHFIL ME HAMARI SHAYARI महफ़िल में जो हमारी शायरी सुनने से कतराते थे ,, मालुम चला तन्हाइयों में वो,…Read More »

Chupa kar nazare kaha ja rahi

Chupa kar nazare छुपा कर नजरे कहाँ जा रही ,, तुम्हे देखने के लिए सारी गली तरस रही …। Apne ap me ek mahfil hu मुझे अकेला समझने की भूल कतई न करना ,, मैं अपने आप में एक हँसता हुआ महफिल…Read More »

kaise gujar rahi hai zindgi

कैसे गुजर रही है ज़िन्दगी कैसे गुजर रही है ज़िन्दगी, ये हर आते जाते लोग पूछ रहे हैं ,, मगर वो तेरे साथ दिखाई नहीं दे रही, ये कोई नहीं पूछता है … Bas halka sa muskura do to अरे सुनो तो,…Read More »

kisi v tarah wo izhar kare

घायल दिल उठ खड़ा हो जाए किसी भी तरह से, वो इज़हार तो करे एक बार ,, मेरा पड़ा घायल दिल , उठ खड़ा तो हो जाए एक बार,,फिर क्यो न नज़र से कहके, जुबां से भले ही मुकर जाएं हर बार…Read More »

ज़िक्र तुम्हारा ही चल रहा था

यूँ ही नहीं मुस्कुराए हम ज़िक्र तुम्हारा ही चल रहा था मन … यूँ ही नहीं मुस्कुराए हम… दिल में ही रहो दिल में ही रहो मन … बाहर गर्मी बहुत ज्यादा है। तुम सा हसीन इस जमाने मे नहीं तुम सा…Read More »

इश्क़ एक खूबसूरत एहसास है

इस एहसास को समेटना चाहता इश्क़ एक खूबसूरत एहसास है “मन” , और मैं इस एहसास को समेटना चाहता हूँ। ऐ “मन” तू क्यों रोता ऐ “मन” तू क्यों रोता है … ये दुनिया है , यहाँ तो हरपल ऐसा ही होता…Read More »

हटा लो अपनी जुल्फों को मासूम चेहरे से

चाँद ज्यादा हसीन लगता हटा लो अपनी जुल्फों को मासूम चेहरे पर से “ये मेरी मन” … चाँद खुले आसमान में ही ज्यादा हसीन लगता है …।।। इंतजार में घंटो खड़ा सुंदरता की प्रतियोगिता पूरे शबाब पे है … आज एक चाँद…Read More »

मीठे लोगों से मिलकर मैंने जाना

कड़वे लोग अक्सर सच्चे होते मीठे लोगों से मिलकर मैंने जाना … तीखे कड़वे लोग अक्सर सच्चे होते हैं…!! वक़्त से पहले कई हादसों से लडा वक़्त से पहले कई हादसों से लडा हूं … मै आपनी उम्र से कई साल बड़ा…Read More »

हुमायूँ मुगल शासक

हुमायूँ एक महान मुगल शासक थे। प्रथम मुग़ल सम्राट बाबर के पुत्र नसीरुद्दीन हुमायूँ (६ मार्च १५०८ – २२ फरवरी, १५५६) थे। यद्यपि उन के पास साम्राज्य बहुत साल तक नही रहा, पर मुग़ल साम्राज्य की नींव में हुमायूँ का योगदान है।…Read More »