Tag: missing love shayari

जरा सी मोहब्बत कर ले

हम बैठे इंतजार कर रहे जरा सी मोहब्बत कर ले, हम बैठे इंतजार कर रहे हैं । ये हसीन पल कही बीत न जाए , फिर तुम मोहब्बत बीन तरस न जाए । Sabhi खंजर एक साथ मारे हाथ पकड़ा , बात…Read More »

बहुत किस्मत वाले होते हैं वो लोग

आपके बिना “मन” नहीं लगता “बहुत किस्मत वाले होते हैं , वो लोग ! जिनकी मोहब्बत बिछड़ कर वापस लौट आए, और मासूमियत से कहें आपके बिना “मन” नहीं लगता । मेरे नजरों में एक सुपर पॉवर काश मेरे नजरों में एक…Read More »

बेसब्री से इंतज़ार है बारिश का

बेसब्री से इंतज़ार बेसब्री से इंतज़ार है बारिश का यूँ तो मुझे .. मेरा दिल तो बस, तेरे प्यार बरसाने पे तरसा है … ये जो अगस्त के बादल सुनों मन, ये जो अगस्त के बादल हैं ना… ये बिल्कुल तुम्हारे जैसे…Read More »

तुम्हारे साथ बिता हूआ हर पल

तेरी बातें तेरी यादें वो तुम्हारे साथ बिता हूआ हर पल हसीं होता है ,, जब तेरी बातें, तेरी यादें, और तेरी माहौल होता हैं ।।। तुम खुल कर मुस्कुराते हो तुम्हारी होठ, महके हुए गुलाबों का बगिया लगता है ,, तुम…Read More »

मना कर दिया उन्हें

दिल कुचलकर तोड़ दिया मना कर दिया उन्हें, न आओं मेरे ख्वाबों में , इश्क़ हमने छोड़ दिया और अपना दिल कुचलकर तोड़ दिया । एक चांद था अकेला था मैं, किसे आवाज देता ,, एक चांद था, वो भी दूर खड़ा…Read More »

कुछ भी खास नहीं होता इन दिनों

वो पास नही है इन दिनों अब कुछ भी खास नहीं होता इन दिनों ..!! वो जो पास नही है इन दिनों….! आँसू बहाऊँ,पाँव पटकूँ कितना अच्छा होता , बचपन के खिलौने सा कहीं छुपा लूँ तुम्हे , आँसू बहाऊँ,पाँव पटकूँ और…Read More »

कल जब तुमसे मिलेंगे

कल सिर्फ तुम्हें देखने में कल जब तुमसे मिलेंगे , तब ढेर सारी बातें करेंगे । कहीं ऐसा न हो कल सिर्फ तुम्हें देखने में ही गुजर जाएं !!! जिन्दगी मिली हैं एक जिन्दगी मिली हैं एक , तुम्हारे साथ बिताने के…Read More »

कोई उन्हें देखने को तरसता रहा

कोई उन्हें देखने को कोई छुपता रहा, और कोई उन्हें देखने को तरसता रहा । ये इश्क नहीं तो और क्या है। मेरी बात भी नहीं सुनती वो सब की बकवासे सुनती थी । मगर मेरी बात भी नहीं सुनती थी ।…Read More »

तेरे रोज रोज के वादों पे मर जायेंगे हम

तेरे रोज रोज के वादों पे तेरे रोज रोज के वादों पे मर जायेंगे हम, . यूँ ही चलती रही तो गुजर जायेंगे हम। बहुत ज़ालिम हो तुम मोहब्बत बहुत ज़ालिम हो तुम भी , भला मोहब्बत कोई ऐसे करता हैं ,…Read More »

कहां-कहां से इकट्ठा करु मुहब्बत तुम्हें

जहाँ देखूँ वहाँ तेरे ही टुकड़े कहां-कहां से इकट्ठा करु , ये मुहब्बत तुम्हें । जहाँ देखूँ वहाँ तेरे ही टुकड़े बिखरे पडे़ हैं , हर तरफ । मेरी आँखे मेरी आँखे खरीदोगे ??? सूखे मौसमों में यह बहुत राहत देगी। कसम…Read More »