KASH WO SIRF MERI HOTI

KASH WO SIRF MERI HOTI

YE KHUDA WO MERI HOTI ये खुदा, काश वो सिर्फ मेरी होती ,, या फिर वो मुझे, मेरी ज़िन्दगी में मिली ही ना होती … USE BHI ISHQ HAI खबर पक्की है “बॉस” … उसे भी इश्क है ,, क्या ? सचमुच ! यश बॉस, मगर अफसोस आपसे नही … बल्कि किसी और से … KISI OR KA DIL DEKHO अरे अरे , रुको रुको … अंदर कहाँ घुसे जा रहे हो ? जगह नहीं है … जाओ किसी और का “दिल” देखो … MUJHE PAYAR KARNA AATA ये सब…

Read More

DHUNDHTE DHUNDHTE MAINE EK UMAR GUJARI

DHUNDHTE DHUNDHTE MAINE EK UMAR GUJARI

MAINE EK UMAR GUJARI ढूँढते ढूँढते मैंनें एक उम्र गुजारी जिसको ,, एकाएक उसे सामने देखूँ , तो मैं पागल हो जाऊँ । MAHFIL ME HAMARI SHAYARI महफ़िल में जो हमारी शायरी सुनने से कतराते थे ,, मालुम चला तन्हाइयों में वो, हमारी सभी शायरियाँ गुनगुनाते हैं … AB KUCH NAHI BAKI HAI अब कुछ भी नहीं बाकी है , सब कुछ खत्म हो गया ,, वो छोड़ कर चले गए यह शहर, हम छोड़कर चले गए यह दुनिया … SAB SAB KE NASIB ME NAHI “सब” सब के नसीब…

Read More

Chupa kar nazare kaha ja rahi

Chupa kar nazare kaha ja rahi

Chupa kar nazare छुपा कर नजरे कहाँ जा रही ,, तुम्हे देखने के लिए सारी गली तरस रही …। Apne ap me ek mahfil hu मुझे अकेला समझने की भूल कतई न करना ,, मैं अपने आप में एक हँसता हुआ महफिल हूँ ।। Dard jayada badh jata h कभी कभी दर्द इतना ज्यादा बढ़ जाता हैं ,, कि आंखों से सिर्फ आंसू ही निकलते हैं …। मेरी जिंदगी तुम बिन बिलकुल अधूरी सुनों “मन” मेरी जिंदगी तुम बिन बिलकुल अधूरी हैं ,, यह तुम क्यों नहीं समझती हैं। उन्हें…

Read More

kaise gujar rahi hai zindgi

kaise gujar rahi hai zindgi

कैसे गुजर रही है ज़िन्दगी कैसे गुजर रही है ज़िन्दगी, ये हर आते जाते लोग पूछ रहे हैं ,, मगर वो तेरे साथ दिखाई नहीं दे रही, ये कोई नहीं पूछता है … Bas halka sa muskura do to अरे सुनो तो, तुम्हे कहाँ जरुरत है सजाने सवारने की,,बस हल्का सा मुस्कुराती हो तो,बेहद खूबसूरत लगती हो !!! Bat to hamari sirf milne ki hui ti बात तो हमारी सिर्फ हर शाम , मिलने की हुई थी ,, पर ये क्या ? तुम तो एकदम घुल गए मुझमें !!! Bahuto…

Read More

kisi v tarah wo izhar kare

kisi v tarah wo izhar kare

घायल दिल उठ खड़ा हो जाए किसी भी तरह से, वो इज़हार तो करे एक बार ,, मेरा पड़ा घायल दिल , उठ खड़ा तो हो जाए एक बार,,फिर क्यो न नज़र से कहके, जुबां से भले ही मुकर जाएं हर बार … शाम को तेरा हँस कर मिलना शाम को तेरा हँस कर मिलना, और बैठकर मुस्कुराते हुए घंटो बातें करना,, मेरे पूरे दिन का सबसे हसीं पल, तुम्हारे साथ ही बीतता है … वो भी मेरी थोड़ी-थोड़ी फिक्र करने लगी अब वो भी मेरी थोड़ी-थोड़ी फिक्र करने लगी…

Read More

Tere naam k sur mai gungunati

Tere naam k sur mai gungunati

tere naam ke soor mai gungunati hu तेरे नाम के सुर , मैं गुनगुनाती हू … तू मेरे साथ रहे या न रहे ,, अपनी इश्क दुनिया को सुनाती है … ”मन” कि शरारतों को देखकर ”मन” कि शरारतों को देखकर , मैं बेहाल हो रही ,, मखमली गालो पर रखे होठों को लाल कर रही … तुम्हे सजने सवरने कि जरुरत नहीं सच कहूँ तो तुम्हे सजने सवरने कि जरुरत नहीं ”मन” ,, तुम ऐसे हि मुझे बहुत खूबसूरत लगती हो … तुम्हारी हर एक एक अदा सुनो ”मन”…

Read More

क्या लिखूँ तेरी सूरत की तारीफ़ में

kya likhe teri tarif me

तेरी अदाएँ देख देख कर क्या लिखूँ तेरी सूरत की तारीफ़ में ए मेरे ”मन” ,सारे अल्फाज खत्म हो गए मेरे , तेरी अदाएँ देख देख कर … ईद का सारा जिम्मा ईद का सारा जिम्मा, अब चाँद पर आ ठहरा है ,, शहर भर की निगाहें, तेरी छत पर टिका है …!!! किसी ने दरवाज़ खटखटाया मेरा आज फिर किसी ने दरवाज़ खटखटाया मेरा,, जरा ध्यान से देखना, अगर इश्क़ हो तो कहना खुदा के लिये माफ़ करे …!!! बे-वजह खामोश नही हुए बे-वजह खामोश नही हुए है वो…

Read More

आज अजीब किस्सा देखा हमने

Aj ajib sa kissa dekha

एक शख्स ने मोहब्बत कर लिया आज अजीब किस्सा देखा हमने खुदकुशी का ।।। एक शख्स ने ज़िन्दगी से तंग आकर मोहब्बत कर लिया ।।। खिलखिलाऊँगी तुम्हारे सम्मुख तुम हृदय से पुकारना मुझे, मैं वहाँ भी निकल कर , खिलखिलाऊँगी तुम्हारे सम्मुख …।।। हमने बखूबी से निभाया उस रिश्ते को भी हमने बखूबी से निभाया । जिसमें न मिलना हमारी, पहली शर्त थी … इस अंधेरे से भरे रौशनी में रहने दे मुझे, इस अंधेरे से भरे रौशनी में … कमबख़्त ये उजाले की रौशनिया, हर वक्त तम्हारी ही तस्वीर…

Read More

मुझे बड़ी अच्छी लगी

मुझे बड़ी अच्छी लगी

चार दिन इश्क़ मोहब्बत मुझे बड़ी अच्छी लगी उसकी ये अदा..!!! चार दिन इश्क़ मोहब्बत और फिर अलविदा…!!! प्यार वो है जो देखते देखते हो प्यार वो नहीं , जो कोई प्लान बनकर करता है .. प्यार वो है… जो देखते देखते आपरुपि हो जाता है ..!! इश्क़ एक खतरा है इश्क़ एक खतरा है “ए मन” … और मुझे लगता है , कि मैं खतरे में हूँ ..! बिखरने से तकलीफ होती मुझे वक्त गुजारने के लिये मत चाहा कर… मैं भी इंसान हूँ…!! मुझे भी बिखरने से तकलीफ…

Read More

अपने ख्वाबों में जिसने भी तुम्हें देखा

अपने ख्वाबों में जिसने भी तुम्हें देखा

आँख खुलते ही ढूँढने निकला अपने ख्वाबों में जिसने भी तुम्हें देखा होगा … यकीनन आँख खुलते ही वो, तुझे ढूँढने निकला होगा… उनके मीठे लफ्ज जब बरसते उनके मीठे लफ्ज जब बरसते है , बनकर बूँदे … यकीनन मैसम कोई भी हो , मन भीग ही जाता है..!! बरस रही थी बारिश जमकर बरस रही थी, बारिश बाहर ,, और वो न जाने कब से, भीग रही थीं अंडर मुझ में। बरसात का भरोशा नहीं बरसात का भरोशा नहीं, कि कब बरस जाए ,, आओ एक छतरी के नीचे…

Read More