Tag: hindi poem

तुम और भी खूबसूरत दिखते हो

मेरी ये चंद शायरीया पढ़ लो तुम कागजों पर….. और भी खूबसूरत दिखते हो , “ये मेरी मन” यकींन नहीं तो……… मेरी ये चंद शायरीया पढ़ लो॥ जब भी मैं तुझसे कनेक्ट होता जब भी मैं तुझसे कनेक्ट होता हूँ— ‘मेरी मन’…Read More »

उसकी हरकतें बिलकुल छोटे बच्चों की तरह

कभी मुझसे रुठ जाती उसकी हरकतें बिलकुल छोटे बच्चों की तरह ही है , कभी मुझसे रुठ जाती हैं , तो कभी खुद रुठ जाती हैं। प्यार का पैगाम लिखा कान्हा को राधा ने प्यार का पैगाम लिखा पूरे खत में सिर्फ…Read More »

उदास मौसम को भी हसीन बना देगी

जब घर से बेनकाब निकलती वो उदास मौसम को भी हसीन बना देगी , जब घर से बेनकाब निकलती होगी।।।। उसके बिखरे हुए बाल जब उसके बिखरे हुए बाल उसके मासूम चेहरे पर आ जाती हैं , कसम से यारों वह और…Read More »

चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना ये ज़िन्दगी

तेरे बिना भी ये ज़िन्दगी चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना भी ये ज़िन्दगी , लोगो को बता देगें , मोहब्बत ऐसे भी होती है ।।।। फिज़ाओ में घोल दी इतनी मोहब्बत तुम ही बताओ हम किधर जाए— इन फिज़ाओ में घोल दी…Read More »

कल रात चाँद बिल्कुल आप जैसा था

चाँद बिल्कुल आप जैसा कल रात चाँद बिल्कुल आप जैसा था , वो ही खूबसूरती वो ही नूर वो ही गुरुर , और वैसे ही आप की तरह दूर!!! ये बारिश तुझे क्या हुआ ये बारिश तुझे क्या हुआ है , जब…Read More »

कुछ भी खास नहीं होता इन दिनों

वो पास नही है इन दिनों अब कुछ भी खास नहीं होता इन दिनों ..!! वो जो पास नही है इन दिनों….! आँसू बहाऊँ,पाँव पटकूँ कितना अच्छा होता , बचपन के खिलौने सा कहीं छुपा लूँ तुम्हे , आँसू बहाऊँ,पाँव पटकूँ और…Read More »

मैं तेरी होती गई और तुम मुझसे दूर भागते गए

मैं तेरी होती गईऔर तुम मुझसे ही दूर भागते गए, मैं तुममें खोती गईऔर तुम औरों की खोज में आगे निकलते गए, मैं तेरी बातें करती गईऔर तुम हर बात में मुझे भुलाते गए, मैं रात दिन रोती रहीऔर तुम मुझे कमजोर…Read More »

मेरी हसरत है तुम्हे चाहने कि

मेरी हसरत है तुम्हे चाहने कि दो पल के लिए नहीं , बल्कि पूरी जिंदगी है , तुम्हारे साथ बिताने कि … मेरी हसरत है तुम्हे चाहने कि … मैं तुम्हे बेइन्तहा चाहता हू , हो सके थोड़ी तुम भी मुझे चाहो…Read More »

गरीब हू साहब Hindi best poem

गरीब हू साहब Hindi best poem गरीब हू साहब , बेईमान नहीं ,, अन्न के लिए भटकता हू , आवारा नहीं …… मैं भी बच्चा हू साहब , दूसरे बच्चों कि तरह ,, मगर मेरा बचपना , उनके बचपना कि तरह नहीं…Read More »

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है तो उसके शहर में कुछ दिन ठहर के देखते है सुना है राफत है उसे खराब हालो से तो अपने आप को बर्बाद कर के देखते है     सुना है दर्द की…Read More »