Tag: friendship love shayari

फिर से न सिमटेगी मोहब्बत

ये ज़िंदगी ज़ुल्फे नहीं फिर से न सिमटेगी मोहब्बत, जो अगर बिखर जायेगी,, ये ज़िंदगी ज़ुल्फे नहीं, जो फिर से संवर जायेगी ।।। बिना मेकअप के ही चांद लगती कुछ लडकिया हज़ार मेकअप कर ले, मगर फिर भी अच्छी नही लगती ,,और…Read More »

मोहब्बत भी क्या गजब की चीज है

मोहब्बत गजब की चीज है यारो मोहब्बत भी क्या गजब की चीज है यारो, कोई ठुकरा देता है तो किसी को आजमाने तक नहीं देता … जब तेरी लत लगी नशा कोई भी हो जान लेवा ही होता है .. यकीन तब…Read More »

मांगना चाहता हूँ तुम्हे खुदा से

सिर्फ यादें ही मुझे दिया मांगना चाहता हूँ तुम्हे खुदा से, पूरा क पूरा । मगर खुदा ने तुम्हारी सिर्फ यादें ही मुझे दिया । आपके इशारे पे मन नजरो में डूब कर न आ सके किनारे पे मन … हम तो…Read More »

उनके बारे में सूना करता था

वो मीठी मीठी जैसी है उनके बारे में सूना करता था, नमकीन जैसी है वो , मैंने चख कर उन्हें देखा, वो मीठी मीठी जैसी है … मुझे अपना बना लो ये मन, अब तो मुझे अपना बना लो !!! सब ने…Read More »

कई दिनो से उन्हें देखा नहीं

सब यूँ ही बीत गई कई दिनो से उन्हें देखा नहीं , और न ही कोई बातचीत हुई । मौसम उदास, दिन उदास,, सब यूँ ही बीत गई ।।। काश कोई ऐसा ख्वाब सुना है, तुम्हें ख्वाब देखने का बहुत शौक है…!!…Read More »

ज़िक्र तुम्हारा ही चल रहा था

यूँ ही नहीं मुस्कुराए हम ज़िक्र तुम्हारा ही चल रहा था मन … यूँ ही नहीं मुस्कुराए हम… दिल में ही रहो दिल में ही रहो मन … बाहर गर्मी बहुत ज्यादा है। तुम सा हसीन इस जमाने मे नहीं तुम सा…Read More »

इश्क़ एक खूबसूरत एहसास है

इस एहसास को समेटना चाहता इश्क़ एक खूबसूरत एहसास है “मन” , और मैं इस एहसास को समेटना चाहता हूँ। ऐ “मन” तू क्यों रोता ऐ “मन” तू क्यों रोता है … ये दुनिया है , यहाँ तो हरपल ऐसा ही होता…Read More »

उसने कसम खाई थी बात नहीं करने की

ढेर सारी बातें कर रही थी उसने कसम खाई थी कभी बात नहीं करने की । मगर पिछली रात ख्वाबो में ढेर सारी बातें कर रही थी । चांद भी झाकता रहता चांद भी झाकता रहता उसे , उसकी खिड़कियों से ।…Read More »

तेरे सिवा मेरे दिल को कुछ नहीं भाता

तेरे सिवा कुछ नहीं आता सुनो , तेरे सिवा मेरे दिल को कुछ नहीं भाता , अनपढ़ सा रहता हूँ , तेरे सिवा कुछ नहीं आता। आज का ज्ञान है किसी को इतना मत चाहो ,, कि वो तुम्हें गिरा हुआ ही…Read More »

तेरे होठो पे गजल लिखु या तेरे जुलफो को सवारू

ये मेरी जिन्दगी तेरे होठो पे गजल लिखु या तेरे जुलफो को सवारू, . ये मेरी जिन्दगी तुम्हे किस नाम से पुकारू। ऐसा तो कभी हुआ सुनो ” मन ” ऐसा तो कभी हुआ ही नहीं । तुमसे गले भी लगे और…Read More »