ज़िक्र तुम्हारा ही चल रहा था

zikra tumhara hi chal raha | Love Romantic Sad bewafa Shayari in Hindi

यूँ ही नहीं मुस्कुराए हम ज़िक्र तुम्हारा ही चल रहा था मन … यूँ ही नहीं मुस्कुराए हम… दिल में ही रहो दिल में ही रहो मन … बाहर गर्मी बहुत ज्यादा है। तुम सा हसीन इस जमाने मे नहीं तुम सा हसीन इस जमाने मे कुछ नहीं होगा ! बिना मिले ही ये हाल हैं…मिलोगे तो न जाने क्या हाल होगा … चुपचाप खामोश हो गया नसीब ने पूछा…बोल क्या चाहिए तूझे , मैंने तुम्हे क्या मांग ली , चुपचाप खामोश हो गया ..!! गजब है मुहब्बत बड़ा गजब…

Read More

बस आखरी बार इस तरह मिल जाना

बस आखरी बार इस तरह मिल जाना

इस तरह मिल जाना बस आखरी बार इस तरह मिल जाना , मुझ को रख लेना या मुझ में ही रह जाना … मोहब्बत एक कटी पतंग है मोहब्बत एक कटी पतंग है जनाब .., गिरती वही है , जिसकी छत बड़ी होती है…!! ये ठंडी हवा का आलम उफ़ ये गजब की रात और ये ठंडी हवा का आलम , हम भी खूब सोते अगर उनकी  बांहो में होते… मेरे नाम पर कीचड़ उछाला ये मेरा फ़र्ज़ बनता है , मैं उसके हाथ धुलवाऊँ … सुना है उसने ,…

Read More

डरता हूँ तुम्हारे बेपनाह प्यार से

डरता हूँ तुम्हारे बेपनाह प्यार से

तुम्हारे बे‘पनाह प्यार से डरता हूँ तुम्हारे बेपनाह प्यार से … क़तरा भर भी कम हुआ तो , बर्दाश्त नहीं होगा … दिल से खेलना लोगो का पसंदीदा खेल दुनिया में कई तरह के खेल खेले जाते हैं , मगर भावनाओं और दिल से खेलना लोगो का सबसे पसंदीदा खेल हैं। साथ तो तुमने तोडा था हाथ मैने छोड़ा था । मगर साथ याद है न ,, साथ तो तुमने तोडा था । लोग महसूस कर लेंगे जज्बात मेरे लिख रहा हूं आज फिर लोग पढ़ेंगे । कुछ लोग महसूस…

Read More

होठ उसके चेहरे पर कुछ यूं नजर आते

होठ उसके चेहरे पर कुछ यूं नजर आते

होठ उसके चेहरे पर होठ उसके चेहरे पर कुछ यूं नजर आते है। दूध में रखी हो जैसे दो पत्तियां गुलाब की।। मैं हजारों में तन्हा मेरा और चान्द के बीच का रिश्ता , करीब करीब मिलता जुलता है। चान्द तारों में तन्हा और मैं हजारों में तन्हा । ये जो इतने सारे लोग ये जो इतने सारे लोगों का भीड़ हैं न “मेरे जनाजे” में , जीते- जी इन्हीं सब से मिलना था मुझे !!! अपने दिल पर भरोसा जब किसी के दिल में किसी खास के लिए इश्क…

Read More

बहुत गुस्सा करने लगी आजकल मुझसे

बहुत गुस्सा करने लगी आजकल मुझसे

मोहब्बत ज्यादा कर रही बहुत गुस्सा करने लगी आजकल मुझसे । नफरत करने लगी हो या मोहब्बत ज्यादा कर रही हो … प्यार से भरी है दिल की तिजोरी उसके प्यार से भरी है मेरे दिल की तिजोरी ,, कोई कोहिनूर भी दे तो भी मैं सौदा ना करूँ । मुझे अपना चेहरा दिखा कर मदहोश ना कर… मुझे अपना चेहरा दिखा कर ,, मोहब्बत अगर चेहरे से होती तो खुदा दिल ना बनाता… वैसा दिल कहाँ से लाऊ वैसा दिल कहाँ से लाऊ “मेरी मन” । जो तुम्हें देखे…

Read More

कितनी मीठी मीठी बातें है तेरी

कितनी मीठी मीठी बातें है तेरी

मीठी मीठी बातें तेरी कितनी मीठी मीठी बातें है तेरी , और  कितना कड़वा दिल  निकला  तेरा .. .. मेरे हर हिस्से में तेरी ही जिक्र जहाँ से तेरा जी चाहे वहाँ से मेरी जिंदगी देख लें  , मेरे जिंदगी के हर हिस्से में तेरी ही जिक्र होगी।।। यूँ न बर्बाद कर मुझे “ये मन” यूँ न बर्बाद कर मुझे “ये मन” अब तो बाज़ आ दिल दुखाने से , मैं तो इंसान हूँ , पत्थर भी टूट जाते है इतना आजमाने से….।।। हमसफ़र बनाने की तमन्ना कोई दावत तो…

Read More

कभी तो कोई ख़ुशी चखा ऐ ज़िंदगी

कभी तो कोई ख़ुशी चखा ऐ ज़िंदगी

कोई ख़ुशी चखा ऐ ज़िंदगी कभी तो कोई ख़ुशी चखा ऐ ज़िंदगी… तुझसे किसने कह दिया के हमारा व्रत है… ज़िन्दगी कभी ना मुस्कुरायी बचपन की तरह मिट्टी भी जमा की…. और खिलौने भी बना कर देखे….. ज़िन्दगी कभी ना मुस्कुरायी फिर… बचपन की तरह…. क्या करेगा कोई बर्बाद हमे अब क्या करेगा कोई बर्बाद हमे… राख को कभी आग से जलाया नही जाता… बहुत कुछ छिपा होता है बहुत कुछ छिपा होता है हमारी बातो में…. बेशक कोई दिल वाला ही समझ सकता है। मोहब्बत है मुझे तू नहीं…

Read More

मौत भी गले लगाकर वापिस चली गई

मौत भी गले लगाकर वापिस चली गई

अभी नही मरोगे तुम मौत भी मुझे गले लगाकर वापिस चली गई बोली… तुम अभी नही मरोगे प्यार किया है ना अभी और तडपोगे… “हां में हां” मिला दिया करो मिलावट का दौर है मन … “हां में हां” मिला दिया करो , “संबंध” लम्बे समय तक बने रहेंगे … वह मुझे अपना सा लगती वो कहती हैं , मैं तुम्हारी नहीं । मगर फिर क्यों वह मुझे अपना सा लगती हैं और से बात करना तेरा खून जलता है मेरा , किसी और से बात करना तेरा । जी…

Read More

चलो थोड़ी मुस्कुराहट बाँटते है

चलो थोड़ी मुस्कुराहट बाँटते है

थोड़ी मुस्कुराहट बाँटते है चलो! थोड़ी मुस्कुराहट बाँटते है. . थोड़ा दुख तकलीफों को डाँटते है. . . क्या पता ये साँसो की चोरी कब हो जाए , क्या पता ‘जिन्दगी की चरखी’ से डोरी कब खत्म हो जाए। ख्वाबों में जीता हूँ वो ज़िन्दगी रोज़ ख्वाबों में जीता हूँ वो ज़िन्दगी … . जो तेरे साथ मैंने हक़ीक़त में सोची थी .. हालात बदल कर आता हूँ ज़िन्दगी सुन , तू यहीं पर रुकना , मै हालात बदल कर आता हूँ । जाते जाते मुझसे कह गई उसने जाते…

Read More

तुम कहती थी हर शाम तुम्हारा इन्तजार करेंगे

तुम कहती थी हर शाम तुम्हारा इन्तजार करेंगे

हर शाम तुम्हारा इन्तजार करेंगे तुम कहती थी कि हर शाम तुम्हारा इन्तजार करेंगे , अब क्या हुआ तुम बदल गई या फिर तुम्हारे शहर में शाम ही नहीं होती। यह दिल नहीं धड़कता जाने वाले चले गए , अब किसी और को देखकर यह दिल नहीं धड़कता । बस बेजान सा पड़ा रहता हैं। इन्तजार कर लेती तुम थोड़ी इन्तजार कर लेती तुम , मेरे दिन खराब थे , दिल नहीं ।।। हो सके तो लौट आओ किसी बहाने से। उसमें हजारों खूबियाँ नज़र आती मुझे उसमें हजारों खूबियाँ…

Read More