Tag: मुझे ज़िन्दा देख कर बोली

अगर इशारों में ही बातें करनी थी

अपनी आँखों को सजाते अगर इशारों में ही बातें करनी थी , तो पहले बताते । हम अपनी शायरी को नही, अपनी आँखों को सजाते !!! जब भी मैं टूटता हूँ जब भी मैं टूटता हूँ, तुम्हे ही ढूंढता हूँ । कभी…Read More »