Tag: बे-वजह खामोश नही हुए

क्या लिखूँ तेरी सूरत की तारीफ़ में

तेरी अदाएँ देख देख कर क्या लिखूँ तेरी सूरत की तारीफ़ में ए मेरे ”मन” ,सारे अल्फाज खत्म हो गए मेरे , तेरी अदाएँ देख देख कर … ईद का सारा जिम्मा ईद का सारा जिम्मा, अब चाँद पर आ ठहरा है…Read More »