Tag: किसी तरह तुम तक पहुंच ही जाता

किसी तरह तुम तक पहुंच ही जाता

ठिकाना मालूम है इस दिल को किसी भी तरह, तुम तक पहुंच ही जाता हैं यह दिल ,, चाहे इसे जितना भी बहलाऊं…ठिकाना अपना मालूम है, जो इस दिल को … कैसे एक एक पल बीतता है सुनो “मन”, तुम पूछ लेना…Read More »