एक माँ कभी नहीं कहती

एक माँ कभी नहीं कहती

बेटा मुझे खुश रखना एक माँ कभी नहीं कहती “बेटा मुझे खुश रखना” । वो तो सिर्फ यह कहती हैं “बेटा तू जहाँ भी रहना खुश रहना” !!! माँ बाप को अपने पास रखा किसी ने व्रत रखा और किसी ने उपवास रखा, हमने वो पुण्य नहीं कमाये, बस माँ बाप को अपने पास रखा… दुनिया की ख़ुशी को शर्त लगी थी दुनिया की ख़ुशी को एक लफ्ज में लिखने के लिए ! वो किताब ढूंढने लगे मेने माँ लिख दिया ! हर मोहब्बत की माँ ये जो माँ की…

Read More

मेरी मां तो आज तक

मेरी मां तो आज तक

रोटी एक मागता हूँ दो दे देती मेरी मां तो आज तक अनपढ़ हैं । खाते समय रोटी एक मागता हूँ तो दो लाकर दे देती हैं। सन्नाटा छा गया सन्नाटा छा गया बटवारे के किस्से में । जब बुढि मां ने पूछा मैं हूँ किसके हिस्से में । माँ-बाप पर क्या बीतता जब नोटों का रंग बदला तो कई लोगों की जान निकल गई। जरा सोचो जब औलाद अपना रंग बदलता है, तो माँ-बाप पर क्या बीतता हैं  !!! हक “मेरी माँ” को होता मेरे किस्मत में तनिक सा…

Read More

दिल में माँ-बाप के

दिल में माँ-बाप के

जब बच्चे कहते हैं दिल में माँ-बाप के हजारों सुईया चुभ जाती हैं। जब बच्चे कहते हैं , तुमने आज  तक मेरे लिए किया ही क्या है  !!! माँ नहीं रहती तो घर खाली सा लगता घल में चाहे कितने भी लोग क्यों न हो  । मगर माँ नहीं रहती तो घर खाली खाली सा लगता हैं  !!! वसीयत के कागजात माँ- बाप  के दवाई की पर्ची खो जाती हैं । मगर वसीयत के कागजात बहुत ही सम्भाल कर रखी जाती हैं। कौन कहता है कि कौन कहता है कि…

Read More

Special for Maa

Special for Maa

Special for Maa किन किन रिश्तों में पुरुष का नाम पहले आता है दादा.दादी नाना.नानी मामा.मामी काका .काकी भइया.भाभी पती.पत्नी लेकिन सिर्फ एक रिश्ता है ऐसा है जिसमे पुरुष बाद में आता है और वो है “माँ-बाप” का ,,, माँ-बाप साक्षात भगवान का रूप होते है , क्योंकि भगवान के ही नामों मे पहले स्त्री का नाम आता है , जैसे…. गौरी शंकर , लक्ष्मी नारायण ,सीता राम ,राधे कृष्ण…

Read More

Love u Maa

Love u Maa

Love u Maa …पत्नी बार बार मां पर इल्जाम लगाए जा रही थी…… और पति बार बार उसको अपनी हद में रहने की कह रहा था लेकिन पत्नी चुप होने का नाम ही नही ले रही थी व् जोर जोर से चीख चीखकर कह रही थी कि “उसने अंगूठी टेबल पर ही रखी थी और तुम्हारेऔर मेरे अलावा इस कमरें मे कोई नही आया अंगूठी हो ना हो मां जी ने ही उठाई है। ।बात जब पति की बर्दाश्त के बाहर हो गई तो उसने पत्नी के गाल पर एक…

Read More

वहा सब माँ कहते है

वहा सब माँ कहते है

वहा सब माँ कहते है भगवान एक बच्चे से कहता है, जिसे अगले दिन पैदा होना है . बच्चे कल तुम्हे हमेशा के लिए’ धरती पर जाना है . बच्चा रोने लगता है ओर पूछता है कि मैने वहा लोगो से कैसे बात करूँगा ? . भगवान – मैने पहले ही धरती पर एक परी भेज दी है जो तुम्हे सिखाएगी बच्चा – मैं वहा जाकर तुम्हारी पूजा कैसे करूँगा ? . भगवान – वो परी तुम्हे ये सब सीखा देगी . बच्चा – मैं अच्छे काम ओर अच्छे भाषा…

Read More

Mother ❤ u

Mother ❤ u

Mother ❤ u एक गाँव में 10, साल का लड़का अपनी माँ के साथ रहता था। माँ ने सोचा कल मेरा बेटा मेले में जाएगा, उसके पास 10 रुपए तो हो, ये सोचकर माँ ने खेतो में काम करके शाम तक पैसे ले आई। बेटा स्कूल से आकर बोला खाना खाकर जल्दी सो जाता हूँ, कल मेले में जाना है। सुबह माँ से बोला – मैं नहाने जाता हूँ,नाश्ता तैयार रखना, माँ ने रोटी बनाई, दूध अभी चूल्हे पर था..! माँ ने देखा बरतन पकडने के लिए कुछ नहीं है,…

Read More

mother special

mother special

mother special दिल छू लेगी ये कहानी एक बार जरूर पढें………. बहु ने आइने में लिपिस्टिक ठीक करते हुऐ कहा -: “माँ जी, आप अपना खाना बना लेना, मुझे और इन्हें आज एक पार्टी में जाना है …!! lat “बुढ़ी माँ ने कहा -: “बेटी मुझे गैस वाला चुल्हा चलाना नहीं आता …!! “तो बेटे ने कहा -: “माँ, पास वाले मंदिर में आज भंडारा है , तुम वहाँ चली जाओ ना खाना बनाने की कोई नौबत ही नहीं आयेगी….!!! “माँ चुपचाप अपनी चप्पल पहन कर मंदिर की ओर हो…

Read More

Maa की ममता

Maa की ममता

Maa की ममता एक बच्चे ने कब्रस्थान जाके अपना बस्ता माँ की कब्र पर फेंका, और भरे हुऐ गले आंखों मे आंसू और शिकायती लेहजे में कहा, तेरी नींद पूरी हो गयी हो तो चल ऊठ और चल मेरे साथ ओर चलकर जवाब दे मेरी टीचर को वो रोजाना मुझसे कहती है कि तेरी माँ बहुत लापरवाह है|| जो ना तुझे अच्छी तरह तैयार करके भेजती है और ना तुझे अच्छी तरह होमवर्क कराती है . जिंदगी मे माँ का ना होना उसी तरह है जिस तरह कडकती धूप मे…

Read More

Mother Shayari ;- माँ ईश्वर कि एक अद्बुत रचना है , जिसे धरती पर ईश्वर का दर्जा दिया गया है , और ईश्वर का दर्जा दिया भी क्यों न जाए … एक माँ अपने संतानों के न जाने कितनी हि दर्द सहती है , जब माँ एक बच्चे को जन्म देती है , तब उस वक्त मानो एक साथ सैकड़ो हड्डियां के टूटने जितना दर्द सहती है … माँ हर पारिस्थिति में अपने बच्चे के साथ रहती है , उनका साहस व् हौशला बढाती है …

पुराने समय से हि कवियों व् लेखकों ने माँ प्रति कई कविताए एवं कहानिया लिखे है , और आज के भी इस दौर में माँ के लिए कई सारी रचनाएँ किए है , जो अपने अपने खूबसूरत शब्दों से माँ को सजा रहे है … सच कहे तो माँ के लिए जितना भी शब्द लिखे , या बाते कहे सब उनके सामने छोटी रह जाएगी , हम उन्हें महसूस जितना कर ते  है , उतना हि उनमे हम खोते चले जाते है …

कोई औरत तब तक माँ नहीं कहलाएगी , जब तक वह एक बच्चे को जन्म नहीं देती …

वैसे माँ कि कोई परिभाषा नहीं , जो उन्हें पूरी तरह परिभाषित कर दे ,, मेरे विचार से वो एक अहसास है एहसास …