By | 17th March 2019

KRISHNA DEV ROY कृष्णदेव राय (1509-1529 ई.) तुलुव वंश के वीर नरसिंह का अनुज था, जो 8 अगस्त, 1509 ई. को विजयनगर साम्राज्य के सिंहासन पर बैठा। उसके शासन काल में विजयनगर एश्वर्य एवं शक्ति के दृष्टिकोण से अपने चरमोत्कर्ष पर था। कृष्णदेव राय ने अपने सफल सैनिक अभियानों के अन्तर्गत 1509-1510 ई. में बीदर के सुल्तान महमूद शाह को ‘अदोनी’ के समीप हराया। 1510 ई. में उसने उम्मूतूर के विद्रोही सामन्त को पराजित किया। 1512 ई. में कृष्णदेव राय ने बीजापुर के शासक यूसुफ़ आदिल ख़ाँ को परास्त कर रायचूर पर अधिकार किया। तत्पश्चात् गुलबर्गा के क़िले पर अधिकार कर लिया। उसने बीदर पर पुनः आक्रमण कर वहाँ के बहमनी सुल्तान महमूद शाह को बरीद के क़ब्ज़े से छुड़ाकर पुनः सिंहासन पर बैठाया और साथ ही ‘यवन राज स्थापनाचार्य’ की उपाधि धारण की।

नीति:
        

        1513-1518 ई. के बीच कृष्णदेव राय ने उड़ीसा के गजपति शासक प्रतापरुद्र देव से कम से कम चार बार युद्ध किया और उसे हर बार पराजित किया। चार बार की पराजय से निराश प्रतापरुद्र देव ने कृष्णदेव राय से संधि की प्रार्थना कर उसके साथ अपनी पुत्री का विवाह कर दिया। गोलकुण्डा के सुल्तान कुली कुतुबशाह को कृष्णदेव राय ने सालुव तिम्म के द्वारा परास्त करवाया। कृष्णदेव राय का अन्तिम सैनिक अभियान बीजापुर के सुल्तान इस्माइल आदिलशाह के विरुद्ध था। उसने आदिल को परास्त कर गुलबर्गा के प्रसिद्ध क़िले को ध्वस्त कर दिया। 1520 ई. तक कृष्णदेव राय ने अपने समस्त शत्रुओ को परास्त कर अपने पराक्रम का परिचय दिया।

        यह नियम और मर्यादाएं केवल हिन्दू राजाओं के लिए थीं। बहमनी के सुल्तानों की प्रचण्ड शक्ति के समक्ष अधिक धैर्य और कूटनीति की आवश्यकता थी। गोलकुण्डा का सुल्तान कुली कुतुब शाह क्रूर सेनापति और निर्मम शासक था। वह जहां भी विजयी होता था वहां हिन्दुओं का कत्लेआम कर देता था। राजा कृष्णदेव राय की रणनीति के कारण बीजापुर के आदिल शाह ने कुतुबशाह पर अप्रत्याशित आक्रमण कर दिया। सुल्तान कुली कुतुब शाह युद्ध में घायल होकर भागा। बाद में आदिल शाह भी बुखार में मर गया और उसका पुत्र मलू खां विजय नगर साम्राज्य के संरक्षण में गोलकुण्डा का सुल्तान बना।

        गुलबर्गा के अमीर बरीद और बेगम बुबू खानम को कमाल खां बन्दी बनाकर ले गया था। कमाल खां फारस का था। खुरासानी सरदारों ने उसका विरोध किया था। तब राजा कृष्णदेव राय ने बीजापुर में बहमनी के तीन शाहजादों को कमाल खां से छुड़ाया और मुहम्मद शाह को दक्षिण का सुल्तान बनाया। बाकी दो की जीविका बांध दी। वहां उनको व्यवनराज्य स्थापनाचार्यव् की उपाधि भी मिली थी। बीजापुर विजय के पश्चात कृष्णदेव राय कुछ समय वहां रहे किन्तु सेना के लिए पानी की समस्या को देखते हुए वे सूबेदारों की नियुक्ति कर चले आए।

        जिन दिनों वे सिंहासन पर बैठे उस समय दक्षिण भारत की राजनीतिक स्थिति डाँवाडोल थी। पुर्तगाली पश्चिमी तट पर आ चुके थे। कांची के आसपास का प्रदेश उत्तमत्तूर के राजा के हाथ में था। उड़ीसा के गजपति नरेश ने उदयगिरि से नेल्लोर तक के प्रांत को अधिकृत कर लिया था। बहमनी राज्य अवसर मिलते ही विजयनगर पर आक्रमण करने की ताक में था। [1] [2] कृष्णदेवराय ने इस स्थिति का अच्छी तरह सामना किया। दक्षिण की राजनीति के प्रत्येक पक्ष को समझनेवाले और राज्यप्रबंध में अत्यंत कुशल श्री अप्पाजी को उन्होंने अपना प्रधान मंत्री बनाया। उत्तमत्तूर के राजा ने हारकर शिवसमुद्रम के दुर्ग में शरण ली। किंतु कावेरी नदी उसके द्वीपदुर्ग की रक्षा न कर सकी। कृष्णदेवराय ने नदी का बहाव बदलकर दुर्ग को जीत लिया। बहमनी सुल्तान महमूदशाह को उन्होंने बुरी तरह परास्त किया। रायचूड़, गुलबर्ग और बीदर आदि दुर्गों पर विजयनगर की ध्वजा फहराने लगी। किंतु प्राचीन हिंदु राजाओं के आदर्श के अनुसार महमूदशाह को फिर से उसका राज लौटा दिया और इस प्रकार यवन राज्य 
        
        स्थापनाचार्य की उपाधि धारण की। 1513 ई. में उन्होंने उड़ीसा पर आक्रमण किया और उदयगिरि के प्रसिद्ध दुर्ग को जीता वैसे तो सन् 1510 ई. में सम्राट कृष्णदेव राय का राज्याभिषेक विजयनगर साम्राज्य के लिए एक नये जीवन का प्रारम्भ था किन्तु इसका उद्भव तो सन् 1336 ई. में ही हुआ था। कहते हैं कि विजय नगर साम्राज्य के प्रथम शासक हरिहर तथा उनके भाई बुक्काराय भगवान श्रीकृष्ण के भक्त थे और उन्हीं की प्रेरणा से अधर्म का विनाश और धर्म की स्थापना करना चाहते थे। हरिहर एक बार शिकार के लिए तुंगभद्रा नदी के तट पर स्थित वन क्षेत्र में गये, उनके साथ के शिकारी कुत्तों ने एक हिरन को दौड़ाया किन्तु हिरन ने डर कर भागने के बजाय शिकारी कुत्तों को ही पलट कर दौड़ा लिया। यह घटना बहुत ही विचित्र थी। घटना के बाद अचानक एक दिन हरिहर राय की भेंट महान संत स्वामी विधारण्य से हुयी और उन्होंने पूरा वृत्तान्त स्वामी जी को सुनाया। इस पर संत ने कहा कि यह भूमि शत्रु द्वारा अविजित और सर्वाधिक शक्तिशाली होगी। सन्त विधारण्य ने उस भूमि को बसाने और स्वयं भी वहीं रहने का निर्णय किया। यही स्थान विकसित होकर विजयनगर कहा गया। वास्तव में दक्षिण भारत के हिन्दु राजाओं की आपसी कटुता, अलाउद्दीन खिलजी के विस्तारवादी अभियानों तथा मोहम्मद तुगलक द्वारा भारत की राजधानी देवगिरि में बनाने के फैसलों ने स्वामी विद्यारण्य के हिन्दू ह्रदय को झकझोर दिया था, इसीलिए वे स्वयं एक शक्तिपीठ स्थापित करना चाहते थे। हरिहर राय के प्रयासों से विजयनगर राज्य बना और जिस प्रकार चन्द्रगुप्त के प्रधानमंत्री आचार्य चाणक्य थे, उसी प्रकार विजयनगर साम्राज्य के महामंत्री संत विद्यारण्य स्वामी और प्रथम शासक बने हरिहर राय।

        एक के बाद एक लगातार हमले कर विदेशी मुस्लिमों ने भारत के उत्तर में अपनी जड़े जमा ली थीं। अलाउद्दीन खिलजी ने मलिक काफूर को एक बड़ी सेना देकर दक्षिण भारत जीतने के लिए भेजा। 1306 से 1315 ई. तक इसने दक्षिण में भारी विनाश किया। ऐसी विकट परिस्थिति में हरिहर और बुक्का राय नामक दो वीर भाइयों ने 1336 में विजयनगर साम्राज्य की स्थापना की। इन दोनों को बलात् मुसलमान बना लिया गया था; पर माधवाचार्य ने इन्हें वापस हिन्दू धर्म में लाकर विजयनगर साम्राज्य की स्थापना करायी। लगातार युद्धरत रहने के बाद भी यह राज्य विश्व के सर्वाधिक धनी और शक्तिशाली राज्यों में गिना जाता था। इस राज्य के सबसे प्रतापी राजा हुए कृष्णदेव राय। उनका राज्याभिषेक 8 अगस्त, 1509 को हुआ था। महाराजा कृष्णदेव राय हिन्दू परम्परा का पोषण करने वाले लोकप्रिय सम्राट थे। उन्होंने अपने राज्य में हिन्दू एकता को बढ़ावा दिया। वे स्वयं वैष्णव पन्थ को मानते थे; पर उनके राज्य में सब पन्थों के विद्वानों का आदर होता था। सबको अपने मत के अनुसार पूजा करने की छूट थी। उनके काल में भ्रमण करने आये विदेशी यात्रियों ने अपने वृत्तान्तों में विजयनगर साम्राज्य की भरपूर प्रशंसा की है। इनमें पुर्तगाली यात्री डोमिंगेज पेइज प्रमुख है।

रायचूर की विजय:

        यह अक्सर भी अनायास ही हाथ आया। घटनाक्रम के अनुसार राजा कृष्णदेव राय ने एक मुस्लिम दरबारी सीडे मरीकर को 50,000 सिक्के देकर घोड़े खरीदने के लिए गोवा भेजा था। पर वह आदिल शाह के यहां भाग गया। सुल्तान आदिल शाह ने उसे वापस भेजना अस्वीकार कर दिया। तब राजा ने युद्ध की घोषणा कर दी और बीदर, बरार, गोलकुण्डा के सुल्तानों को भी सूचना भेज दी। सभी सुल्तानों ने राजा का समर्थन किया। 11 अनी और 550 हाथियों की सेना ने चढ़ाई कर दी। मुख्य सेना में 10 लाख सैनिक थे। राजा कृष्णदेव राय के नेतृत्व में 6000 घुड़सवार, 4000 पैदल और 300 हाथी अलग थे। यह सेना कृष्णा नदी तक पहुंच गयी। 19 मई, 1520 को युद्ध प्रारंभ हुआ और आदिल शाही फौज को मुंह की खानी पड़ी। लेकिन उसने तोपखाना आगे किया और विजय नगर की सेना को पीछे हटना पड़ा था।

        एक दिन राजा कृष्णदेव राय शिकार के लिए गए। वह जंगल में भटक गए। दरबारी पीछे छूट गए। शाम होने को थी। उन्होंने घोड़ा एक पेड़ से बांधा। रात पास के एक गांव में बिताने का निश्चय किया। राहगीर के वेश में किसान के पास गए। कहा, “दूर से आया हूं। रात को आश्रय मिल सकता है?” किसान बोला, “आओ, जो रूखा-सूखा हम खाते हैं, आप भी खाइएगा। मेरे पास एक पुराना कम्बल ही है, क्या उसमें जाड़े की रात काट सकेंगे?” राजा ने ‘हां’ में सिर हिलाया। रात को राजा गांव में घूमे। भयानक गरीबी थी। उन्होंने पूछा, “दरबार में जाकर फरियाद क्यों नहीं करते?” कैसे जाएं? राजा तो चापलूसों से घिरे रहते हैं। कोई हमें दरबार में जाने ही नहीं देता।”किसान बोला। सुबह राजधानी लौटते ही राजा ने मंत्री और दूसरे अधिकारियों को बुलाया। कहा, “हमें पता चला है,हमारे राज्य के गांवों की हालत ठीक नहीं है। तुम गांवों की भलाई के काम करने के लिए खज़ाने से काफी रुपया ले चुके हो। क्या हुआ उसका?” मंत्री बोला, “महाराज, सारा रुपया गांवों की भलाई में खर्च हुआ है। आपसे किसी ने गलत कहा।” मंत्री के जाने के बाद उन्होंने तेनाली राम को बुलवा भेजा। कल की पूरी घटना कह सुनाई। तेनाली राम ने कहा, “महाराज, प्रजा दरबार में नहीं आएगी। अब आपको ही उनके दरबार में जाना चाहिए। उनके साथ जो अन्याय हुआ है, उसका फैसला उन्हीं के बीच जाकर कीजिए।” अगले दिन राजा ने दरबार में घोषणा की-“कल से हम गांव-गांव में जाएंगे, यह देखने के लिए कि प्रजा किस हाल में जी रही है!” सुनकर मंत्री बोला, “महाराज, लोग खुशहाल हैं। आप चिन्ता न करें। जाड़े में बेकार परेशान होंगे।” तेनाली राम बोला, “मंत्रीजी से ज्यादा प्रजा का भला चाहने वाला और कौन होगा? यह जो कह रहे हैं,ठीक ही होगा। मगर आप भी तो प्रजा की खुशहाली देखिए।” मंत्री ने राजा को आसपास के गांव दिखाने चाहे। पर राजा ने दूर-दराज के गावों की ओर घोड़ा मोड़ दिया। राजा को सामने पाकर लोग खुल कर अपने समस्याएं बताने लगे। मंत्री के कारनामे का सारा भेद खुल चुका था। वह सिर झुकाए खड़ा था। राजा कृष्णदेव राय ने घोषणा करवा दी- अब हर महीने कम से कम एक बार वे खुद जनता के बीच जाकर उनकी समस्याओं का समाधान करेंगे।

17 Replies to “KRISHNA DEV ROY”

  1. tinyurl.com

    A person essentially assist to make significantly articles
    I’d state. This is the very first time I frequented your web
    page and so far? I surprised with the research you made to make
    this particular put up amazing. Fantastic activity!

    Reply
  2. tinyurl.com

    I think that what you published made a bunch of sense. However,
    consider this, what if you wrote a catchier
    post title? I mean, I don’t wish to tell you how to run your website, but what if you added something that grabbed people’s attention? I
    mean KRISHNA DEV ROY | Love Romantic Sad Dosti bewafa Shayari
    in Hindi is a little vanilla. You might glance at Yahoo’s front page and see how they create news titles to grab people to click.
    You might add a video or a pic or two to get readers
    excited about what you’ve got to say. Just my opinion, it
    would make your posts a little livelier.

    Reply
  3. coconut oil is

    It’s actually a cool and helpful piece of information.
    I’m happy that you simply shared this helpful info with us.
    Please stay us informed like this. Thank you for sharing.

    Reply
  4. ps4 games

    Greetings! Quick question that’s totally off topic.
    Do you know how to make your site mobile friendly?
    My web site looks weird when viewing from my iphone4.
    I’m trying to find a theme or plugin that might be able to resolve this problem.
    If you have any recommendations, please share. Many thanks!

    Reply
  5. quest bars cheap

    I’m gone to tell my little brother, that he should also pay a quick visit this web site on regular basis to obtain updated from latest reports.

    Reply
  6. quest bars cheap coupon twitter

    I loved as much as you will receive carried out right
    here. The sketch is tasteful, your authored subject matter stylish.
    nonetheless, you command get got an nervousness over that you wish be delivering the following.

    unwell unquestionably come more formerly again since exactly the same nearly very
    often inside case you shield this increase.

    Reply
  7. quest bars cheap

    Good day! I know this is somewhat off topic but I was wondering if you knew where I could get a captcha plugin for my
    comment form? I’m using the same blog platform as yours and I’m having difficulty finding one?
    Thanks a lot!

    Reply
  8. ps4 games

    I was recommended this web site by my cousin. I’m not sure whether this post is written by him as no one else know such detailed about my trouble.

    You are amazing! Thanks!

    Reply
  9. ps4 games

    This is really interesting, You are a very skilled blogger.
    I’ve joined your rss feed and look forward to seeking more of your great post.
    Also, I’ve shared your site in my social networks!

    Reply
  10. quest bars cheap

    Greetings, I believe your web site could possibly be having web
    browser compatibility problems. Whenever I look at your website in Safari,
    it looks fine however, when opening in I.E., it has some overlapping issues.
    I just wanted to give you a quick heads up! Apart
    from that, wonderful site!

    Reply
  11. quest bars cheap

    We’re a group of volunteers and starting a new scheme in our community.

    Your website offered us with valuable information to work on. You’ve done a formidable job and our whole community will be grateful to you.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *