kisi v tarah wo izhar kare

kisi v tarah wo izhar kare

घायल दिल उठ खड़ा हो जाए

किसी भी तरह से, वो इज़हार तो करे एक बार ,,

मेरा पड़ा घायल दिल , उठ खड़ा तो हो जाए एक बार,,
फिर क्यो न नज़र से कहके, जुबां से भले ही मुकर जाएं हर बार …

 घायल दिल उठ खड़ा हो जाए

शाम को तेरा हँस कर मिलना

शाम को तेरा हँस कर मिलना, और बैठकर मुस्कुराते हुए घंटो बातें करना,,

मेरे पूरे दिन का सबसे हसीं पल, तुम्हारे साथ ही बीतता है …

शाम को तेरा हँस कर मिलना

वो भी मेरी थोड़ी-थोड़ी फिक्र करने लगी

अब वो भी मेरी थोड़ी-थोड़ी फिक्र करने लगी है,,

ऐसा लगता उसे भी मुझसे मोहब्ब्त हो रही है …

वो भी मेरी थोड़ी-थोड़ी फिक्र करने लगी

Use samane se aata dekhkar

उसे सामने से आता देख, मैंनें अपना सिर नीचे कर लिया ,,

और उन्हें लगा, अब मुझे उनसे इश्क़ नहीं …

उसे सामने से आता देख

Muskurana behad hi muskil

औरों के लिए होगा , मुस्कराना बेहद ही मुश्किल काम ,,

मेरे लिए क्या ? मुझे तो बस सिर्फ तुम्हें सोचना है…

Muskurana behad hi muskil

देखकर उन्हें एकदम बेचैन हो गया

सामने से वो मुझे देखकर, एकदम ख़ामोश रही ,,

और मैं सामने से उन्हें देखकर , एकदम बेचैन हो गया …

  देखकर उन्हें एकदम बेचैन हो गया

Leave a Comment