हम चले जागेंगे एक दिन इस दुनिया से

ham chale jaege ek din

नींद तुझको भी नहीं आएगी

हम चले जागेंगे एक दिन इस दुनिया से , तन्हा तेरे बगैर ,,

मगर नींद तुझको भी नहीं आएगी किसी और की बाँहों में …

नींद तुझको भी नहीं आएगी

इश्क है तो फिर शक कैसा

इश्क है तो फिर शक कैसा ,,,,,,

और नहीं है तो फिर ,,,,, हक कैसा,,,?

इश्क है तो फिर शक कैसा

काश कोई ऐसी जगह बने

काश कोई ऐसी जगह बने जहां
दिल के टुकरे को फिर से जोड़ दिया जाता हो।

 काश कोई ऐसी जगह बने

जंग अगर महबूब से हो

जिन्दगी का यह तरीका भी , आजमाना चाहिये…

जंग अगर महबूब से हो, तो हार जाना चाहिये….

जंग अगर महबूब से हो

न कर इतना गुरुर

न कर इतना गुरुर अपने नशे पर ये शराब—-
जबकि सच तो यह है कि,
तुझसे ज्यादा नशा तो किसी की आँखें में हैं ।

न कर इतना गुरुर

तेरी मुस्कुरा‍हटो पर तो कई बार

चेहरे देख कर दिल लगाया ही नही कभी हमने …

हां तेरी मुस्कुरा‍हटो पर तो कई बार जान लुटाई है हमने …

तेरी मुस्कुरा‍हटो पर तो कई बार

Leave a Comment