फिर से न सिमटेगी मोहब्बत

Fir se n simtegi mohabbat

ये ज़िंदगी ज़ुल्फे नहीं

फिर से न सिमटेगी मोहब्बत, जो अगर बिखर जायेगी,,
ये ज़िंदगी ज़ुल्फे नहीं, जो फिर से संवर जायेगी ।।।

ये ज़िंदगी ज़ुल्फे नहीं

बिना मेकअप के ही चांद लगती

कुछ लडकिया हज़ार मेकअप कर ले,

मगर फिर भी अच्छी नही लगती ,,
और मेरी वाली, बिना मेकअप के ही चांद jaisi लगती ।

बिना मेकअप के ही चांद लगती

दिल को समझाता हूँ मै

दिल को हर सुबह समझाता हूँ मै,

और हर शाम दिल समझाता है मुझे।

वक्त हम दोनो का इसी तरह ही कट जाता है !

दिल को हर सुबह समझाता हूँ मै

ये तुम्हारे गुलाबी होठ

खिल जाते हैं सारे फुल, जब तेरे कदम इस बगिया में पड़ते हैं ।
उफ़्फ़, ये तुम्हारे गुलाबी होठ है ,,
या तेरे होठों जैसे ही गुलाब है ..!!!

ये तुम्हारे गुलाबी होठ

उनकी सारी शिकायतों का हिसाब

उनकी सारी शिकायतों का हिसाब जोड़ कर रखा था,,

उन्होंने बांहों में भरकर, सारा गणित बिगाड़ दिया मेरा !!!

उनकी सारी शिकायतों का हिसाब

मेरी आँखों में नमी देख कर

मेरी आँखों में नमी देख कर, लोग कहने लगे हैं ,

लगता है आपका प्यार आपकों आजमाता बहुत है !!

मेरी आँखों में नमी देख कर

Leave a Comment