By | 17th March 2019

Ashok mahan अशोक बिंदुसार का पुत्र था , बौद्ध ग्रन्थ दीपवंश में बिन्दुसार की 16 पत्नियों एवं 101 पुत्रों का जिक्र है। अशोक की माता का नाम शुभदाग्री था। बिंदुसार ने अपने सभी पुत्रों को बेहतरीन शिक्षा देने की व्यवस्था की थी। लेकिन उन सबमें अशोक सबसे श्रेष्ठ और बुद्धिमान था। प्रशासनिक शिक्षा के लिये बिंदुसार ने अशोक को उज्जैन का सुबेदार नियुक्त किया था। अशोक बचपन से अत्यन्त मेघावी था। अशोक की गणना विश्व के महानतम् शासकों में की जाती है।


आरंभिक जीवन:

        बिंदुसार ने अशोक को तक्षशीला भेजा। अशोक वहाँ शांति स्थापित करने में सफल रहा। अशोक अपने पिता के शासनकाल में ही प्रशासनिक कार्यों में सफल हो गया था। जब 273 ई.पू. में बिंदुसार बीमार हुआ तब अशोक उज्जैन का सुबेदार था। पिता की बिमारी की खब़र सुनते ही वह पाटलीपुत्र के लिये रवाना हुआ लेकिन रास्ते में ही अशोक को पिता बिंदुसार के मृत्यु की ख़बर मिली। पाटलीपुत्र पहुँचकर उसे उन लोगों का सामना करना पड़ा जो उसे पसंद नही करते थे। युवराज न होने के कारण अशोक उत्तराधिकार से भी बहुत दूर था। लेकिन अशोक की योग्यता इस बात का संकेत करती थी कि अशोक ही बेहतर उत्तराधिकारी था। बहुत से लोग अशोक के पक्ष में भी थे। अतः उनकी मदद से एंव चार साल के कड़े संघर्ष के बाद 269 ई.पू. में अशोक का औपचारिक रूप से राज्यभिषेक हुआ।

        सम्राट अशोक  बचपन से ही शिकार के शौकीन थे तथा खेलते खेलते वे इसमे निपूर्ण भी हो गए थे। कुछ बड़े होने पर वे अपने पिता के साथ साम्राज्य के कार्यो मे हाथ बटाने लगे थे तथा वे जब भी कोई कार्य करते अपनी प्रजा का पूरा ध्यान रखते थे, इसी कारण उनकी प्रजा उन्हे पसंद करने लगी थी। उनके इन्ही सब गुणो को देखते हुये, उनके पिता बिन्दुसार  ने उन्हे कम उम्र मे ही सम्राट घोषित कर दिया था। उन्होने सर्व प्रथम उज्जैन का शासन संभाला, उज्जैन ज्ञान और कला का केंद्र था तथा अवन्ती की राजधानी। जब उन्होने अवन्ती का शासन संभाला तो वे एक कुशल रजनीतिज्ञ के रूप मे उभरे। उन्होने उसी समय विदिशा की राजकुमारी शाक्य कुमारी से विवाह किया । शाक्य कुमारी देखने मे अत्यंत ही सुंदर थी। शाक्य कुमारी से विवाह के पश्चात उनके पुत्र महेंद्र तथा पुत्री संघमित्रा का जन्म हुआ । अशोक घोर मानवतावादी थे। वह रात – दिन जनता की भलाई के काम ही किया करते थे। उन्हें विशाल साम्राज्य के किसी भी हिस्से में होने वाली घटना की जानकारी रहती थी। धर्म के प्रति कितनी आस्था थी, इसका अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि वह बिना एक हजार ब्राम्हणों को भोजन कराए स्वयं कुछ नहीं खाते थे, कलिंग युध्द अशोका के जीवन का आखरी युध्द था, जिससे उनका जीवन को ही बदल गया।

        अशोक ने मगध का शासन तो हथिया लिया, किंतु उसके राज्याभिषेक में अनेक बाधाएं उपस्थित होती रहीं, जिनका अशोक ने डटकर मुकाबला किया। महाराज बिंदुसार की मृत्यु के चार वर्ष बाद अशोक का बड़ा धूमधाम से राजतिलक हुआ। राजा बनते ही वे अपने पिता के समान नित्य हजारों ब्राह्नाणों को दान देते, पुध्यकार्य और धर्मपूर्वक आचरण करते रहे। इस राज्य की सुव्यवस्था में चंद्रगुप्त मौर्य की योग्यता, चाणक्य की नीति और बिंदुसार के सुप्रबंध के सारे गुण थे। राज्याभिषेक के आठवें वर्ष एक अत्यंत महत्वपूर्ण घटना घटी, जिसने अशोक के जीवन को ही नहीं, अपितु भारत के इतिहास को भी बदल दिया। अशोक अब अपनी निपुणता से एक बड़े राज्य का अधिकारी था। उसे शत्रुओं का भय नहीं था। राज्य में सर्वत्र शांति का साम्राज्य था, परंतु अशोक को अपनी राजधानी से दूर एक शक्तिशाली छोटा-राज्य स्वतंत्र राज्य खटकता रहता था। इस राज्य का नाम था कलिंग। वह पहले कभी नंद साम्राज्य के अधीन था, किंतु उसने अपनी शक्ति द्वारा उस पराधीनता से मुक्ति पा ली थी। अशोक के पराक्रम, सैन्य-बल तथा नीति-निपुणता से कई राज्यों ने मगध की अधीनता स्वीकार कर ली थी, किंतु कलिंग ने मगध की अधीनता स्वीकार नहीं की। यहां तक कि बिंदुसार ने भी अपने दक्षिण के आक्रमण काल में कलिंग को छेड़ना उचित न समझा था। उसने कलिंग के तीन ओर के प्रदेशों को जीतकर उसे घेर अवश्य रखा था। अशोक ने प्रतिदिन बढ़ते हुए इस शक्तिशाली कलिंग को जीतने का निश्चय किया।

        अशोका और कलिंगा घमासान युध्द शुरु हुआ। जिसमे कलिंगा को परास्त किया जो इस से पहले किसी सम्राट ने नहीं किया था और ना ही कर पाया था। उस समय मौर्य साम्राज्य तब तक का सबसे बड़ा भारतीय साम्राज्य माना जाता था। सम्राट अशोक को अपने विस्तृत साम्राज्य से कुशल और बेहतर प्रशासक तथा बौद्ध धर्म के प्रचार के लिए जाना जाता था। कलिंगा-अशोका युद्ध में 100000 से भी ज्यादा मृत्यु हुई और 150000 से भी ज्यादा घायल हुए। इस युध्द में हुए भारी रक्तपात ने उन्हें हिलाकर रख दिया। उन्होंने सोचा कि यह सब लालच का दुष्परिणाम है और जीवन में फिर कभी युध्द न करने का प्रण लिया। उन्होंने बौध्द धर्म अपना लिया और अहिंसा के पुजारी हो गये। उन्होंने देशभर में बौध्द धर्म के प्रचार के लिए स्तंभों और स्तूपों का निर्माण कराया। विदेशों में बौध्द धर्म के विस्तार के लिए भिक्षुओं की तोलियां भेजीं। बुद्ध का प्रचार करने हेतु उन्होंने अपने रज्य में जगह-जगह पर भगवान गौतम बुद्ध की प्रतिमाये स्थापित की। और बुद्ध धर्म का विकास करते चले गये।

शासनकाल:

        अशोका को एक निडर, परन्तु बहुत ही बेरहम राजा माना जाता है। उन्हें अवन्ती प्रान्त में हुए दंगों को रोकने के लिए प्रतिनियुक्त किया गया था। उज्जैन में विद्रोह को दबाने के बाद 286 ईसा पूर्व में उनको अवंती प्रांत के वायसराय नियुक्त किया गया। पिता बिन्दुसार नें अशोक को उनके उत्तराधिकारी बेटे सुसीम को एक विद्रोह दमन में मदद मिल सके। इसमें अशोक सफल भी हुआ और उसे इसी कारण वह तक्सिला का वाइसराय भी बना। 272 इसा पूर्व में अशोक के पिता बिन्दुसार की मृत्यु हुई, उसके पश्चात दो वर्ष तक अशोक और उसके सौतेले भाइयों के बिच घमासान युद्ध चला। दो बौद्ध ग्रन्थ; दिपवासना और महावासना के अनुसार, अशोक नें सिंहासन पर कब्ज़ा करने के लिए अपने 99 भाइयों को मार गिराया और मात्र विटअशोक को बक्श दिया। उसी समय 272 इसा पूर्व में अशोक सिंहासन तो चढ़ा, परन्तु उसका राजभिषेक 269 इसा पूर्व में हुआ और वह मौर्य साम्राज्य का तीसरा सम्राट बना। अपने शाशन काल के दौरान वह अपने साम्राज्य को भारत के सभी उपमहाद्वीपों तक बढ़ने के लिए लगातार 8 वर्षों तक युद्ध करते रहे।

        कहा जाता है दक्षिण एशिया और मध्य एशिया में अशोका नें भगवान बुद्ध के अवशेषों को संग्रह करके रखने के लिए कुल 84000 स्तूप बनवाएं। उसके “अशोक चक्र” जिसको धर्म का चक्र भी कहा जाता था, आज के भारत के तिरंगा के मध्य में मौजूद है। मौर्य साम्राज्य के सभी बॉर्डर में 40-50 फीट ऊँचा. अशोक स्तम्भ अशोक द्वारा स्थापित किया गया है। अशोक नें चार आगे पीछे एक साथ खड़े सिंह का मूर्ति भी बनवाया था जो की आज के दिन भारत का राजकीय प्रतिक हैं। आप इस मूर्ति को भारत के सारनाथ मुसियम में देख सकते हैं।

बौध्द धर्म:

        कलिंग युद्ध में हुई क्षति तथा नरसंहार से उसका मन युद्ध से ऊब गया और वह अपने कृत्य को लेकर व्यथित हो उठा। इसी शोक से उबरने के लिए वह बुद्ध के उपदेशों के करीब आता गया और अंत में उसने बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया। बौद्ध धर्म स्वीकारने के बाद उसने उसे अपने जीवन मे उतारने का प्रयास भी किया। उसने शिकार तथा पशु-हत्या करना छोड़ दिया। उसने ब्राह्मणों एवं अन्य सम्प्रदायों के सन्यासियों को खुलकर दान देना भी आरंभ किया। और जनकल्याण के लिए उसने चिकित्यालय, पाठशाला तथा सड़कों आदि का निर्माण करवाया। उसने बौद्ध धर्म के प्रचार के लिए धर्म प्रचारकों को नेपाल, श्रीलंका, अफ़ग़ानिस्तान, सीरिया, मिस्र तथा यूनान भी भेजा। इसी कार्य के लिए उसने अपने पुत्र एवं पुत्री को भी यात्राओं पर भेजा था। अशोक के धर्म प्रचारकों में सबसे अधिक सफलता उसके पुत्र महेन्द्र को मिली। महेन्द्र ने श्रीलंका के राजा तिस्स को बौद्ध धर्म में दीक्षित किया, और तिस्स ने बौद्ध धर्म को अपना राजधर्म बना लिया और अशोक से प्रेरित होकर उसने स्वयं को ‘देवनामप्रिय’ की उपाधि दी। अशोक के शासनकाल में ही पाटलिपुत्र में तृतीय बौद्ध संगीति का आयोजन किया गया, जिसकी अध्यक्षता मोगाली पुत्र तिष्या ने की। यहीं अभिधम्मपिटक की रचना भी हुई और बौद्ध भिक्षु विभिन्‍न देशों में भेजे गये जिनमें अशोक के पुत्र महेन्द्र एवं पुत्री संघमित्रा भी सम्मिलित थे, जिन्हें श्रीलंका भेजा गया।

        बौद्ध धर्म स्वीकार करने के बाद अशोक ने उसके प्रचार करने का बीड़ा उठाया । उसने अपने धर्म के अनुशासन के प्रचार के लिए अपने प्रमुख अधिकारीयों युक्त ,राजूक और प्रादेशिक को आज्ञा दी। धर्म की स्थापना , धर्म की देखरेख धर्म की वृद्धि तथा धर्म पर आचरण करने वालो के सुख एवं हितों के लिए धर्म – महामात्र को नियुक्त किया । बौद्ध धर्म का प्रचार करने हेतु अशोक ने अपने राज्य में बहत से स्थान पर भगवान बुद्ध की मूर्तियाँ स्थापित की । विदेश में बौद्ध धर्म के प्रचा हेतु उसने भिक्षुओं को भेजा । विदेश में बौद्ध धर्म के लिए अशोक  ने अपने पुत्र और पुत्री तक को भिक्षु-भिक्षुणी के वेष में भारत से बाहर भेज दिया । इस तरह से वें बुद्ध धर्म का विकास करते चले गये। धर्म के प्रति अशोक की आस्था का पता इसी से चलता है की वे बिना 1000 ब्राम्हणों को भोजन कराए स्वयं कुछ नहीं खाते थे ।

म्रुत्यु:

        अशोक ने करीब 40 वर्ष तक शासन किया जिसके बाद लगभग 234 ईसापूर्व में उनकी मृत्यु हुई। उसके कई संतान तथा पत्नियां थीं। उनके बारे में अधिक पता नहीं है। अशोक की मृत्यु के बाद मौर्य राजवंश करीब 50 वर्ष तक चला। लुम्बिनी में भी अशोक स्तंभ देखा जा सकता है। कर्नाटक के कई स्थानों पर उसके धर्मोपदेश के शिलोत्कीर्ण अभिलेख मिले हैं।

261 Replies to “Ashok mahan”

  1. Pingback: NANA SHAHEB नाना साहेब | All Best Collections | दिल का किरायेदार | Hindi Shayari

  2. Pingback: कुतुबुद्दीन ऐबक | All Best Collections | दिल का किरायेदार | Hindi Shayari

  3. Pingback: समाज सुधारक राजा राममोहन राय | hearttenant Best Collections | दिल का किरायेदार | Hindi Shayari

  4. tinyurl.com

    Its like you learn my mind! You seem to know a lot about
    this, like you wrote the book in it or something.
    I believe that you simply could do with a
    few percent to drive the message home a bit, but other than that,
    this is wonderful blog. An excellent read.
    I will definitely be back.

    Reply
  5. tinyurl.com

    Spot on with this write-up, I truly believe this web site needs far more
    attention. I’ll probably be back again to read through more,
    thanks for the advice!

    Reply
  6. quest bars cheap

    At this time it appears like Drupal is the top blogging platform available right now.
    (from what I’ve read) Is that what you are using
    on your blog?

    Reply
  7. ps4 games

    hi!,I love your writing so much! percentage we keep in touch extra
    about your post on AOL? I require a specialist on this area to resolve my problem.
    May be that’s you! Taking a look forward to see you.

    Reply
  8. quest bars cheap

    I’m amazed, I must say. Seldom do I encounter a blog that’s both educative and interesting, and let me tell you,
    you’ve hit the nail on the head. The problem is something that not enough people are speaking intelligently about.

    I’m very happy that I came across this in my search for something relating to this.

    Reply
  9. ps4 games

    I like what you guys tend to be up too. This type of clever work and coverage!
    Keep up the very good works guys I’ve added you guys
    to my blogroll.

    Reply
  10. quest bars cheap

    Today, I went to the beach with my children. I found a
    sea shell and gave it to my 4 year old daughter
    and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She put the shell to her ear and screamed.
    There was a hermit crab inside and it pinched her ear.
    She never wants to go back! LoL I know this is completely
    off topic but I had to tell someone!

    Reply
  11. quest bars cheap

    An intriguing discussion is definitely worth comment. There’s no doubt that that you ought to publish more on this issue, it
    might not be a taboo matter but generally people do not talk about
    such subjects. To the next! Many thanks!!

    Reply
  12. ps4 games

    Hi! I realize this is sort of off-topic but I had to ask.
    Does running a well-established website such as yours require a large amount of work?

    I’m brand new to running a blog however I do
    write in my diary daily. I’d like to start a blog so I can easily share my own experience and feelings online.

    Please let me know if you have any recommendations or
    tips for brand new aspiring blog owners. Appreciate it!

    Reply
  13. ps4 games

    Howdy! This post couldn’t be written much better!
    Going through this post reminds me of my previous roommate!

    He always kept preaching about this. I am going to forward this article to him.
    Fairly certain he’ll have a very good read.
    I appreciate you for sharing!

    Reply
  14. coconut oil

    You have made some good points there. I checked on the net
    to find out more about the issue and found most individuals will go
    along with your views on this site.

    Reply
  15. http://sinnedbeyondhelp.tumblr.com/

    Thanks for some other informative web site. Where else may I am getting that kind
    of information written in such an ideal manner?
    I have a challenge that I am simply now working on, and I have been at
    the glance out for such information.

    Reply
  16. match.com free trial

    Excellent blog here! Also your site loads up very fast! What host are
    you using? Can I get your affiliate link to your host?
    I wish my web site loaded up as fast as yours lol

    Reply
  17. https://russellwebster.tumblr.com/

    Appreciating the time and effort you put into your site and detailed information you present.

    It’s good to come across a blog every once in a while that isn’t the
    same unwanted rehashed material. Wonderful
    read! I’ve bookmarked your site and I’m including your RSS
    feeds to my Google account.

    Reply
  18. sling tv

    excellent points altogether, you simply won a
    logo new reader. What could you suggest in regards to your post that
    you just made some days in the past? Any positive?

    Reply
  19. sling tv https://asksylphoflight.tumblr.com/

    Appreciating the dedication you put into your site and detailed information you provide.
    It’s great to come across a blog every once in a while that isn’t the same unwanted rehashed information. Wonderful
    read! I’ve saved your site and I’m including your RSS feeds to my Google account.

    Reply
  20. sling tv

    Hello it’s me, I am also visiting this site daily, this web page is truly fastidious
    and the viewers are actually sharing nice thoughts.

    Reply
  21. sling tv

    Its like you read my mind! You appear to know so much about this, like you wrote
    the book in it or something. I think that you could do with a few
    pics to drive the message home a little bit, but other than that,
    this is excellent blog. A great read. I will certainly be back.

    Reply
  22. MatGync

    Generic Viagra Shipped From Usa Buy Cheap Atomoxetine Online Cialis Lilly 20mg 12 Cialis Progesterone 100mg Hormone Replacement Kamagra Deutschland Forum Cialis Generico Marca

    Reply
  23. sling tv

    Heya i’m for the first time here. I found this board and I find It truly useful & it helped me out a lot.
    I hope to give something back and help others like you aided me.

    Reply
  24. sling tv

    I feel that is among the so much significant info for me.
    And i’m glad reading your article. However wanna commentary on few basic things, The site taste is ideal, the articles
    is in point of fact nice : D. Good job, cheers

    Reply
  25. sling tv best package 2020

    Howdy fantastic blog! Does running a blog like this
    take a great deal of work? I have absolutely no knowledge of coding but I had been hoping to start my own blog in the near future.
    Anyways, should you have any ideas or tips for new blog owners please share.
    I understand this is off topic nevertheless I simply had to ask.
    Thanks a lot!

    Reply
  26. sling tv

    You’re so awesome! I do not think I’ve read anything like that before.

    So great to discover someone with a few genuine thoughts on this issue.

    Really.. thanks for starting this up. This website
    is something that is required on the web, someone with a
    bit of originality!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *