उसे कहेना के तेरी याद बहुत आती

उसे कहेना के तेरी याद बहुत आती

तेरी याद बहुत आती उसे कहेना के तेरी याद बहुत आती है……!! ये भी कहेना कोई ओर नहीं है मेरा…..!!!! मेरी तन्हाईयाँ फिर से लो, “शाम” हो गई.. मेरी तन्हाईयाँ फिर से तेरे नाम हो गई… मैं तो रोज़ ही सुनो मैं तो रोज़ ही “”रोज़े”” रख लूँ…!! मगर शर्त है तुम “”चाँद”” बन जाओ — ना जाने क्यूँ एहसास सा है हो दूर कितना भी , पर ना जाने क्यूँ एहसास सा है , तू मेरे पास , बहुत पास , बहुत पास सा है………… दीवाना हूँ उस का……

Read More

इस जगमगाते शहर में रोता हुआ इश्क

इस जगमगाते शहर में रोता हुआ इश्क

इस जगमगाते हुए शहर इस जगमगाते हुए शहर से हटकर मेरा एक अपना शहर है ”’अन्धेरो का शहर ” जहाँ सिर्फ मैं और एक तेरी यादे ही रहतीं हैं। हम मिलने को तरसते हैं खुश नसीब होते हैं बादल , जो दूर रहकर भी ज़मीन पर बरसते हैं , और एक बदनसीब हम हैं , जो एक ही दुनिया में रहकर भी.. मिलने को तरसते हैं. इश्क का नाम बता दिया आज खुदा ने भी मुझसे पूछा हि लिया , कि तेरा पहले जैसा हसता हुआ चेहरा उदास क्यों हैं…

Read More

आज फिर तेरी गलियों के चक्कर लगा आये

आज फिर तेरी गलियों के चक्कर लगा आये

तेरी एल झलक खातिर आज फिर तेरी गलियों के चक्कर लगा आये हम , आज फिर तेरी एक झलक खातिर पूरा दिन तेरी गलियों में बिता आये हम….. उसे मालूम चलेगा तब वह जब उसे मालूम चलेगा तब वह बहुत पछताएगि , कि मोती ठुकरा दिए पत्थर चुनते चुनते ।। बहुत अच्छे लगते हो तुम दूर रहते हो तब भी बहुत अच्छे लगते हो , अगर पास रहते तो पता न क्या होता।।। सबको भुला सकते है मगर बादल चाँद को छुपा_सकता है , आकाश को नही …. हम सबको…

Read More

लोग कहते हैं कि हम मुस्कुराते बहुत हैं

लोग कहते हैं कि हम मुस्कुराते बहुत हैं

हम थक गए हैं लोग कहते हैं कि हम मुस्कुराते बहुत हैं , और हम थक गए हैं अब दर्द छिपाते छिपाते । आँख खुलते ही ठीक से सुबह उठ जाने तो दिया करो ,, आँख खुलते ही याद आने लगते हो । अपने पेरों से छूकर अपने पेरों से छूकर…तूने सारा पानी…गुलाबी कर दिया , नदी की…सारी मछलियों को…तूने शराबी कर दिया …. मुलाकात तो होगी महोब्बत न सही पास के थाने में मुकदमा ही कर दो ! तारीख दर तारीख मुलाकात तो होगी !! महसूस कुछ ही लोगों…

Read More

शरारतें करने का मन अभी भी करता

शरारतें करने का मन अभी भी करता

शरारतें करने का मन शरारतें करने का मन अभी भी करता है.. पता नहीं बचपना जिंदा है या इश्क अधुरा है..। तुम्हे देख कर मैं पागल नही हूँ.. बस तुम्हे देख कर . मेरे दिल का दिमाग खराब हो जाता है.. मेरी चाहत ने इतने भी प्यारे नही हो तुम ,, बस मेरी चाहत ने तुम्हे , सर पर चढा रखा है। धीरे धीरे तुम्हें खोने का अब कोई अवसर नहीं दिखाई दे रहा है तुम्हें पाने का , लगता हैं  समय आ रहा धीरे धीरे तुम्हें खोने का। भूला…

Read More

वो मजे में सोती थी मुझे रुलाकर

शक है उन्हें

वो रोती है मेरी कबर पर आकर वो मजे में सोती थी मुझे रुलाकर , आज मैं चैन से सोया हूँ. , वो रोती है मेरी कबर पर आकर…. बेवज़ह बिछड तो गये बेवज़ह बिछड तो गये हो…. बस इतना बता दो… कि.. सुकून मिला या नहीं…?? बिलकुल ही बदल गया वादा था मुकर गया , नशा था उतर गया , दिल था भर गया , वह इन्सान था जो बिलकुल ही बदल गया। इतनी ही फिक्र है तो नींद चुराने वाली पूछती हैं सोते क्यू नही हो तुम ….!!!…

Read More

ख्वाहिश थी की वो मुझे याद करे

ख्वाहिश थी की वो मुझे याद करे

मैंने ही उसे बेशुमार चाहा ख्वाहिश थी की वो मुझे याद करे मेरी तरह , मगर ख्वाहिश थी.. ख्वाहिश ही रह गई ….  इसमें गलती उसकी नहीं गलती मेरी थी कि मैंने ही उसे बेशुमार चाहा था। थोड़ी देर ठहर जाती तुम सुनो ,, थोड़ी देर ठहर जाती तुम ,, तो शायद तुम्हें मिल जाते हम ,, क्योंकि इश्क ज़ल्दबाज़ी का नही ,, इन्तज़ार का नाम है ,, सफर बड़ी मुश्किल से गुजर रहा ना तुम मेरे करीब हो और न ही ज्यादा दूर , फिर भी ये बीच का…

Read More

तुम्हारी खुशियों के ठिकाने बहुत होंगे

तुम्हारी खुशियों के ठिकाने बहुत होंगे

हमारी खुशियों की सबब ”तुम्हारी खुशियों के ठिकाने बहुत होंगे “ये  मेरी मन” ….. मगर हमारी खुशियों की सबब तो सिर्फ तुम ही हो …।।। तेरा मोहब्बत पर मेरा हक तेरा मोहब्बत पर मेरा हक तो नही, पर…. दिल कहता है , आखिरी सांस तक तेरा इंतजा़र करूं…. फैसला नही हो पा रहा हैं कोई , फैसला नही ….. हो पा रहा है …. तन्हा , हम है …या फिर ये रात ??? तेरे साथ खड़े हो जाऊ काश मैं …..” तेरे साथ  खड़े हो जाऊ  और फ़क़ीरआ कर कहे….…

Read More

महफिल अब सुनसान जैसी लगती हैं

महफिल अब सुनसान जैसी लगती हैं

तुम्हारी कमी खलती हैं महफिल अब सुनसान जैसी लगती हैं। दिल में हर वक्त तुम्हारी कमी खलती हैं। मिलने को तरसते हैं खुश नसीब होते हैं बादल , जो दूर रहकर भी ज़मीन पर बरसते हैं, . और एक बदनसीब हम हैं, . जो एक ही दुनिया में रहकर भी.. मिलने को तरसते हैं. … मुझ जैसा मत करना मेरे बाद अगर किसी को मुझ जैसा पाओ तो , मेरे बाद किसी के साथ मुझ जैसा मत करना !!! जब भी तुम पुकारोगो जब भी तुम पुकारोगो , हरदम साथ…

Read More

दिनो के बदलने का इंतजार किसे है

दिनो के बदलने का इंतजार किसे है

इंतजार उस दिन का मुझे दिनो के बदलने का इंतजार किसे है , उसके दिल को बदल दूँ इंतजार उस दिन का मुझे है …. तेरा इंतजार करना बाकी है तेजी से गुजर रहा यह साल । मगर पल पल अभी और , तेरा इंतजार करना बाकी है। ये दिल थोड़ा सबर कर , अभी दिसंबर कुछ बाकी है। इंतज़ार उसका है मेरे दिल की उम्मीदों का हौसला तो देखो , इंतज़ार उसका है जिसे मेरा एहसास तक नहीं। हमारी जिंदगी मे आते अकेले कैसे रहा जाता है , कुछ…

Read More