By | 3rd April 2019

दिल जोर जोर धडकने लगता

अगर कोई ​मेरे​ सर के ऊपर गन टिकाये तो फर्क नही पड़ता ,,

लेकिन अगर तू मेरे सामने ​​से गुजर ​जाये तो

ये दिल जोर जोर धडकने लगता हैं।

दिल जोर जोर धडकने लगता

मेरा हारा हुआ इश्क

है कोई वकील इस जहान में ,

जो मुझे मेरा हारा हुआ इश्क जीता दे ।।।

मेरा हारा हुआ इश्क

रोक देना मेरी मय्यत

रोक देना मेरी मय्यत को उसके घर के सामने ,

लोग पूछे तो कह देना की कंधे बदल रहे है !!

रोक देना मेरी मय्यत

मोहब्बत में गुमान कैसा

मोहब्बत में गुमान कैसा , सवाल कैसा , जबाब कैसा ,,

मोहब्बत तो मोहब्बत है , इसमे हिसाब कैसा …

मोहब्बत में गुमान कैसा

आज भी प्यार करता हूँ

आज भी प्यार करता हूँ तेरे से ,

ये मत समज की , मुझे कोई मिली नही ,,

मिली तो बहुत लेकिन तू किसी में दिखी नही …

आज भी प्यार करता हूँ

मौसम हसीन है

आज कुछ और नहीं बस इतना सुनो…

मौसम हसीन है , लेकिन तुम जैसा नहीं…

मौसम हसीन है

खूब जंच रही तुम पर ये मुस्कान

सुनो ”मन” , खूब जंच रही तुम पर ये मुस्कान …

यू ही हरदम , इसे अपने मुखड़े पर सजाया करो …

5 Replies to “अगर तू मेरे सामने ​​से गुजर ​जाये”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *