By | 29th May 2019


वो बेरहम सा दिन आज भी मुझे

वो बेरहम सा दिन आज भी मुझे अच्छी तरह याद है … जब तुमने मुझे ठुकरा कर दूर चली गई थी … मैं सुनकर तुम्हारी बाते राह में हि मायुश होकर बैठ गया था … ऐसा लगने वाला था मानो मेरे आखोँ का बांध टूटने वाला है ..तुम बेरहम दिल कितनी आसानी से मेरे प्यार को भुलाकर चली गई … मैं मायुश चुपचाप अपने दिल को फुसला रहा था … की तभी अचानक उसकी एक सहेली मेरे पास आकार कहती है ‘’मन’’ वो भी तुमसे बहुत प्यार करती है , पर उसके घर वाले पहले हि उसकी शादी कही और तय कर दिए है , इसलिए वह तुम्हारे प्यार को इंकार कर रही थी … वह अपने परिवार का दिल नहीं दुखाना चाहती है … मगर यह बात सच है कि वो भी तुमसे बहुत प्यार करती है … और उसने यह भी बात कही कि ‘’मन’’ बहुत अच्छा लड़का है , मैं उसे प्यार के साए में रख कर बाद में उसे धोखा नहीं देना चाहती इसलिए इसलिए उसके प्यार को इंकार किया , मुझे माफ कर देना ‘’मन’’ …

                   मैं उसकी सहेली कि बात सुनकर भावुक हो गया, और खुशी से झूम उठा … मगर मेरे दिल में उदासी कि बीज पनप रही थी … खुसी इस बात कि थी कि वो भी मुझसे मोहब्बत करती , और दुःख इस बात कि थी कि ‘’वो मेरी होकर भी मेरी नहीं हो सकती’’ … मेरे दिल एक बात कांटे कि तरह चुभ रही थी, जब हम एक दूसरे से मोहब्बत करते है तब हमारे मुकददर में एक दूसरे से मिलना क्यों नहीं लिखा है …  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *