मीठे लोगों से मिलकर मैंने जाना

मीठे लोगों से मिलकर मैंने जाना

कड़वे लोग अक्सर सच्चे होते

मीठे लोगों से मिलकर मैंने जाना … तीखे कड़वे लोग अक्सर सच्चे होते हैं…!!

कड़वे लोग अक्सर सच्चे होते

वक़्त से पहले कई हादसों से लडा

वक़्त से पहले कई हादसों से लडा हूं … मै आपनी उम्र से कई साल बड़ा हूं…

वक़्त से पहले कई हादसों से लडा

‘मर्द जात’ तुझे तरक्की मुबारक

औरत से लेके तुम तो बच्ची तक आ गए , ‘मर्द जात’ तुझे तरक्की मुबारक हो ।

‘मर्द जात’ तुझे तरक्की मुबारक

खुद अपनी तलाश

अगर , मगर और काश मैं हूँ ,.. मैं खुद अपनी तलाश में हूँ …

खुद अपनी तलाश

दुःख देने वाला कभी सुखी नहीं

दुःख भोगने वाला तो आगे सुखी हो सकता है … लेकिन दुःख देने वाला कभी सुखी नहीं हो सकता ।

दुःख देने वाला कभी सुखी नहीं

थकान काम के कारण नहीं होती

थकान कभी काम के कारण नहीं होती । बल्कि चिन्ता , सोच , निराशा , और भय के कारण होती हैं।

थकान कभी काम के कारण नहीं होती

Leave a Comment