क्या क्या नहीं किया उसके लिए

क्या क्या नहीं किया उसके लिए

क्या क्या नहीं किया उसके लिए क्या क्या नहीं किया उसके लिए , सब कुछ लुटा दिया उसे पाने के लिए ,, घर में झूठ बोला उनसे मिलने के लिए , कुछ रिश्ते मैंने तोड़ दिए उन्हें अपना बनाने के लिए …. जाने कितने बहाने बनाए सिर्फ उन्हें देखने के लिए , हर पल उन्हें याद करते थे मुस्कुराने के लिए ,, लोगो ने कहा तुम पागल हो गए हो उसके लिए , पर लोगो को क्या पता वह क्या थी मेरे लिए …. अक्सर कहती थी तुम बने हो…

Read More

मैं तेरी होती गई और तुम मुझसे दूर भागते गए

मैं तेरी होती गई और तुम मुझसे दूर भागते गए

मैं तेरी होती गईऔर तुम मुझसे ही दूर भागते गए, मैं तुममें खोती गईऔर तुम औरों की खोज में आगे निकलते गए, मैं तेरी बातें करती गईऔर तुम हर बात में मुझे भुलाते गए, मैं रात दिन रोती रहीऔर तुम मुझे कमजोर समझते गए, मैं तुम्हारे लिये औरों को नज़र अंदाज़ करती गईऔर तुम मुझे ही दूर भेजते गए, मैं मन ही मन में घुटती गईऔर तुम मुझे मगरूर समझते गए, मैं बार बार तुम्हे समझाती गईऔर तुम मुझे ही ना-समझ समझते गए, जैसे एक बहाने की ही तलाश थी…

Read More

मेरी हसरत है तुम्हे चाहने कि

मेरी हसरत है तुम्हे चाहने कि

मेरी हसरत है तुम्हे चाहने कि दो पल के लिए नहीं , बल्कि पूरी जिंदगी है , तुम्हारे साथ बिताने कि … मेरी हसरत है तुम्हे चाहने कि … मैं तुम्हे बेइन्तहा चाहता हू , हो सके थोड़ी तुम भी मुझे चाहो … बस इसी चाहत में हमें पूरी जिंदगी है बिताने कि , मेरी हसरत है तुम्हे चाहने कि… जब मैं तेरी चाहत में खो जाऊँ , तब तुम मुझे ढूंड लेना … जब तुम मेरी चाहत में खो जाओ , तब मैं तुम्हे ढूंड लूँगा … क्योकि हम…

Read More

तुम मौसम कि तरह लगती हो

किसी की चाहत

तुम मौसम कि तरह लगती हो तुम मौसम कि तरह लगती हो , जो समय समय पर अपना रंग बदलती हो …. तुम सावन कि तरह लगती हो , जो पल पल बरसती हो …. तुम सपना सा लगती हो , जो मुझे खवाबो में ही दिखती हो …. तुम रोज रोज मुझसे लड़ती हो , फिर भी बहुत अच्छी लगती हो ….. बात तो है छोटी सी , फिर भी  कहने को दिल चाहता है … लो आज मैं कह देता हू , तुम अपनी अपनी सी मुझे लगती…

Read More

गरीब हू साहब Hindi best poem

गरीब हू साहब Hindi best poem

गरीब हू साहब Hindi best poem गरीब हू साहब , बेईमान नहीं ,, अन्न के लिए भटकता हू , आवारा नहीं …… मैं भी बच्चा हू साहब , दूसरे बच्चों कि तरह ,, मगर मेरा बचपना , उनके बचपना कि तरह नहीं ….. गरीब हू साहब , बेईमान नहीं ,, जिसने आपको राहत व् सुकून दिया , उसी ने हमें आँसू व् तकलीफ दिया ….. जिसने आपको खुद के महलों का सैर कराया , उसी ने हमें लोगो के घर-घर का सैर कराया …..  मगर हम दोनों का आत्मा है…

Read More

कैसे मनाऊं जन्मदिन Birthday shayari

मोहब्बत के जख्म

कैसे मनाऊं जन्मदिन Birthday shayari कैसे मनाऊं जन्मदिन, जब तुम नहीं मेरे पास हो ,, दिल के धड़कने कह रही,तुम ही तो मेरी आस हो ,, मैं हूँ तुम्हारी पतंग,तुम मेरे जीवन की डोर हो ,, तुम्हारे मेरे बीच में बस अब  कोई न और हो ,, छूना चाहती हूँ उच्चाईयों को , तुम मेरे आकाश हो ,, अंधकार सारा मिट जायेगा, तुम तो मेरे प्रकाश हो,, सारा जहाँ बेकार लगता, जब तुम नहीं मेरे पास हो ,, कैसे मनाऊं जन्मदिन, जब तुम नहीं मेरे पास हो ,, दिन तो कट…

Read More

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है तो उसके शहर में कुछ दिन ठहर के देखते है सुना है राफत है उसे खराब हालो से तो अपने आप को बर्बाद कर के देखते है     सुना है दर्द की गाहक है चस्मे नाज़ उसकी तो हम भी उसकी गली से गुजर के देखते है सुना है उसको भी है शेयर -ओ -शायरी से सराफ तो हम भी मोईझे अपने हुनर के देखते है सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते है यह बात है तो चलो…

Read More

Usse zyada khoobsurat ladki , Romentic shayari

Usse zyada khoobsurat ladki

Usse zyada khoobsurat ladki   Aisa toh nahi tha ki isse zyada khoobsurat ladki maine dekhi nahi thi… par pata nahi kyun uske chehre se meri nazar hatt ti nahi thhi. Uski aankhein jhuki hui thhi aur uski saansein tez… bohot darri hui thhi woh. Uska ek baal uski daayin aankh ko pareshaan kar raha thha, woh use jhatakne ki koshish kar rahi thhi par hawa tez thhi… baal wahin ka wahin. Maine uske baal hataane ke liye uski orr apna haath badhya aur usne ghabra ke meri taraf dekha.…

Read More

Kitni ajeeb baat hai na , Hindi love sad poem

Kitni ajeeb baat hai na , Hindi love sad poem

Kitni ajeeb baat hai na ↔Hindi love sad poem   ..Kitni ajeeb baat hai na… jab tu mere paas thi , to har dam yeh sochta tha ki.. kya main teri kadar nahi karta aur aaj jab tu mere paas nahi to yeh ehsaas hota hai ki qadar to hamesha se hi thi par tujhe na khone k yakeen ne andhaa kar diya tha..! bhala kya pata tha aisa bhi kuch ho sakta h mera tujhse alag hona itna hi namumkin tha jitna tera mujhse nafrat karna baitha hu thandi zameen…

Read More

उसकी मीठी यादें मुझे आती है

छुपकर उसे अपने खिड़कीयो से देख रहा था

उसकी मीठी यादें मुझे आती है उसकी मीठी मीठी यादें , धीमी धीमी से मुझे आती है … चेहरे पर एक चमक देकर , दूर कही वह चली जाती है …. फिर से उसकी यादो को तलाशता हू , फिर से वह मुझे मिल जाती है … अगली बार से उसकी यादे मुझसे दूर न जा , इसलिए रब से मन्नत मांगता हू …. जब उसकी यादो में खोया रहता हू , ऐसा लगता मनो जन्नत कि सैर करता हू …. नील गगन में उड़ता रहता , हरदम उसकी यादो…

Read More