Category: बिखरी बिखरी सी मोहब्बत

बिखरी बिखरी सी मोहब्बत mohabat aksar har kisi ko kahi n kahi ho jati h. bat har kisi ki success nahi hoti , to aaj ham ese hi logo ke lie lae hai behtarin broken heart shayari… jise ap sab beshak  padhe …

वो सरेआम नफरत का इजहार करती रही

मोहब्बत का पैगाम वो सरेआम मुझसे नफरत का इजहार करती रही ,, और मैं सरेआम उन्हें मोहब्बत का पैगाम भेजता रहा । अपने पास से गुजरते जब मैं Byk चलाता हूँ , तब बहुत से लोगों को अपने पास से गुजरते हुए…Read More »

खुद को माफ नहीं कर पाओगे

जिंदगी में हमारी कमी पाओगे खुद को माफ नहीं कर पाओगे , जिस दिन अपनी जिंदगी में हमारी कमी पाओगे । तब समझ में आएगा कि वह तो मुझसे सच्ची मोहब्बत करता था और मैं नफरत करता था। तेरी बाते तेरी चाहत…Read More »

वो साथ रहती तो शायद बदल भी जाता मैं

छोड़कर उसने मुझे वो साथ रहती तो शायद बदल भी जाता मैं , छोड़कर उसने मुझे और आवारा कर दिया … कैसा नसीब पाया है मैंने प्यार का न जाने कैसा नसीब पाया है मैंने प्यार का , उसका दिल ही नहीं…Read More »

इतनी मोहब्बत बिखेर दूँगा अपने लफ़्ज़ों से

इतनी मोहब्बत कोई कैसे कर सकता इतनी मोहब्बत बिखेर दूँगा अपने लफ़्ज़ों से , की एक ना एक दिन तू भी कहेगी ,, की इतनी मोहब्बत कोई कैसे कर सकता है … भूल जाओ मुझे तुम्हारे बस में अगर हो तो भूल…Read More »

तेरे होटो मैं भी क्या खूब नशा है

तेरे ही झुटे पानी से शराब बनती तेरे होटो में भी क्या खूब नशा है ” ऐ मन ” …।। ऐसा लगता है की तेरे ही झुटे पानी से शराब बनती है l मत रूठना कभी हमसे मत रूठना कभी हमसे ”ऐ…Read More »

आज हाथो में गुलाब ले के होंठो पर

गुलाब की जगह आज हाथो में गुलाब लेकर होंठो पर लगा कर उसने कहा , अगर आस -पास कोई ना होता तो , इस गुलाब की जगह तुम होते । नाम बदलकर महोब्बत रख दिया महोब्बत क्या है ? शायद ये कोई…Read More »

कोई गुजर गया आहिस्ता- आहिस्ता

कोई गुजर गया आहिस्ता- आहिस्ता आज मेरी कब्र से कोई गुजर गया आहिस्ता- आहिस्ता… मैं कफन ओढ़े चुपचाप लेटा देखता रहा आहिस्ता- आहिस्ता …. । मोहब्बत के जख्म मोहब्बत के जख्म “किसी भी मौसम में देख सकते हो मन , मोहब्बत के…Read More »

भला ये कैसी मोहब्बत है

भला ये कैसी मोहब्बत है एक वादा किया है हमने , उनसे न मिलने का , ज़माना सोच रहा है , भला ये कैसी मोहब्बत है ??? दर्द के सिवा कुछ नहीं मिलेगी कहती हैं मोहब्बत , रुक जाओ हद से काफी…Read More »

 उसकी भी हालत , मेरे जैसी ही थी

उसकी भी हालत , मेरे जैसी मैं कैसे मान लूं , कि उसे मुझसे मुहब्बत नही थी । बिछड़ते वक़्त उसकी भी हालत , मेरे जैसी ही थी !!! रोज रोज सुबह हंसती है बहुत , वो हर एक शक्स के सामने…Read More »

कैसे भुलाऊँ तुम्हें Hindi Sad Shayari

कैसे भुलाऊँ तुम्हें बताओ ना कैसे भुलाऊँ तुम्हें..…..?? तुम तो वाक़िफ़ हो इस हुनर से….!! तेरी यादों की दौलत बड़ी सँभाल कर खर्च करते हैं ..! तेरी यादों की दौलत..…! आखिर एक उम्र गुजारनी है ..! इन्हीं की बदौलत…! महसूस हुआ मुझे…Read More »