By | 9th June 2019

वृद्धाश्रमों में किस की “मां”

चारों तरफ “जय माता दी-जय माता दी” छाई हुई है… फिर ये वृद्धाश्रमों में किस की “मां” आई हुई है …?

वृद्धाश्रमों में किस की “मां”

फुटपाथ पर सो जाता

कोई चादर समझ के खींच ना ले फिर से ‘ इसलिए मैं कफ़न ओढ़ कर फुटपाथ पर सो जाता हूँ …!!!

 फुटपाथ पर सो जाता

जग जाता है रातों में

ज़रा सी आहट से….वो जग जाता है रातों में.. .खुदा बेटी दे गरीब को . तो  दरवाज़ा भी दे.,.,

जग जाता है रातों में

भूख से मरने वालों की

भूख से मरने वालों की पोस्ट मॉर्टम रिपोर्ट बड़ी अजीब थी … पेट ख़ाली, दिल भरा, आँखों में शर्म और ज़ुबाँ भी बंद थी ।

भूख से मरने वालों की

गरीब का नाबालिक बच्चा

गरीब का नाबालिक बच्चा यदि अपने पेट और परिवार के लिए मजदूरी करे तो बाल अपराध की उपाधि और फिल्मो और नाटक में नाबालिक काम करे तो बाल कलाकार की उपाधि से नवाजा जाता है .. कटु सत्य,

 गरीब का नाबालिक बच्चा

हँसी ❝ बाजार ❞ में नही बिकती

शुक्र है हँसी ❝ बाजार ❞ में नही बिकती.. वरना लोग ❝ गरीबो ❞ से यह भी छीन लेते …

हँसी ❝ बाजार ❞ में नही बिकती

घर पर मेरी माँ और बहन

खरीद कर तिरंगा हमे आज़ाद कर दो साहब , घर पर मेरी माँ और बहन को भूख ने क़ैद करके रखा हुआ है ।।।

घर पर मेरी माँ और बहन

7 Replies to “गरीब आदमी कि दर्द”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *