उनके बारे में सूना करता था

उनके बारे में सूना करता था

वो मीठी मीठी जैसी है

उनके बारे में सूना करता था, नमकीन जैसी है वो ,
मैंने चख कर उन्हें देखा, वो मीठी मीठी जैसी है …

 वो मीठी मीठी जैसी है

मुझे अपना बना लो

ये मन, अब तो मुझे अपना बना लो !!!
सब ने छोड रखा है मुझे, तेरा समझ कर ।

मुझे अपना बना लो

दिल में एक हसरत थी

दिल में एक हसरत थी, कभी वो भी हमें मनाए ,,

खैर ये कम्बक्त दिल कभी उनसे रूठा ही नहीं ।

दिल में एक हसरत थी

आपसे मोहब्बत हो गयी

छोटे-छोटे ख़्वाब थे मेरे ,

आपको देखा तो अपने सारे ख्वाब भुल गया,और आपसे मोहब्बत हो गयी ।

आपसे मोहब्बत हो गयी

सुन रहे हो ना मन

सुन रहे हो ना मन ,
संन्यासी तो बन जायेंगे हम ,, मगर ध्यान तुम्हारा ही लगाएंगे हम ।

सुन रहे  हो ना मन

तेरी मोहब्बत के नशे में

मत कर हंगामा ”पीकर मेरी गली में !!

हम तो ख़ुद बदनाम हैं ”तेरी मोहब्बत के नशे
में !!!

 तेरी मोहब्बत के नशे में

Leave a Comment