By | 5th July 2019

अपनी आँखों को सजाते

अगर इशारों में ही बातें करनी थी , तो पहले बताते ।

हम अपनी शायरी को नही, अपनी आँखों को सजाते !!!

अपनी आँखों को सजाते

जब भी मैं टूटता हूँ

जब भी मैं टूटता हूँ, तुम्हे ही ढूंढता हूँ ।

कभी तुमने ही एक बार कहा थी ना , हम एक है !!!

जब भी मैं टूटता हूँ

तुमको पाकर जमाने से

तुमको पाकर जमाने से खोना कौन चाहेगा ।

इस शहर में तन्हां होना कौन चाहेगा ।।।

तुमको पाकर जमाने से

मुझे ज़िन्दा देख कर बोली

वो मुझे ज़िन्दा देख कर बोली …

“मन” बद्दुआ नही लगती क्या तुमको ..

मुझे ज़िन्दा देख कर बोली

आखिरी कॉल किसने काटी

बेवफा मैं हूँ ? ठीक है, लेकिन ये बताओ !

आखिरी कॉल किसने काटी थी ??

आखिरी कॉल किसने काटी

तुम अपनी ये अदाएं

“सुनो मन”
तुम अपनी ये अदाएं, ये मुस्कुराहटें और ये मस्त निगाहें ,
नक़ाब ओढ़ लो , कहीं हम उजड़ ना जाए …

तुम अपनी ये अदाएं

8 Replies to “अगर इशारों में ही बातें करनी थी”

  1. vurtil opmer

    I like the helpful information you supply on your articles. I’ll bookmark your blog and test once more here frequently. I’m fairly sure I’ll be told plenty of new stuff right here! Best of luck for the following!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *