Tag: HINDI ROMANTIC LOVE SHAYARI

AGAR KUCH V YAAD AAE Love Shayari

AGAR KUCH V YAAD AAE 2 Line Love Shayari   अगर कुछ भी याद आए , मेरे साथ बिताए हुए वो हसीं पल ,, फौरन लौट आना , मुझे इंतजार रहेगा तुम्हारा हर पल !!! कहानी लिख कर , “Heart touching story”…Read More »

इश्क़ एक खूबसूरत एहसास है

इस एहसास को समेटना चाहता इश्क़ एक खूबसूरत एहसास है “मन” , और मैं इस एहसास को समेटना चाहता हूँ। ऐ “मन” तू क्यों रोता ऐ “मन” तू क्यों रोता है … ये दुनिया है , यहाँ तो हरपल ऐसा ही होता…Read More »

ज़िक्र तुम्हारा ही चल रहा था

यूँ ही नहीं मुस्कुराए हम ज़िक्र तुम्हारा ही चल रहा था मन … यूँ ही नहीं मुस्कुराए हम… दिल में ही रहो दिल में ही रहो मन … बाहर गर्मी बहुत ज्यादा है। तुम सा हसीन इस जमाने मे नहीं तुम सा…Read More »

एक माँ कभी नहीं कहती

बेटा मुझे खुश रखना एक माँ कभी नहीं कहती “बेटा मुझे खुश रखना” । वो तो सिर्फ यह कहती हैं “बेटा तू जहाँ भी रहना खुश रहना” !!! माँ बाप को अपने पास रखा किसी ने व्रत रखा और किसी ने उपवास…Read More »

जरूरी नहीं की हर लड़की का प्यार

कुछ लड़कियों की दोस्ती जरूरी नहीं की हर लड़की का प्यार गर्लफ्रेंड वाला ही हो ,, कुछ लड़कियों की दोस्ती भी प्यार से कम नहीं होती … दोस्त आज फिर हम मिलकर कुछ उनकी सुनो , कुछ अपनी सुनाओ । आओ दोस्त…Read More »

अपना तो कोई दोस्त नही

सब साले कलेजे के टुकडे अपना तो कोई दोस्त नही है , सब साले कलेजे के टुकडे है ।। कुछ दोस्त खजाने की तरह कुछ दोस्त खजाने की तरह होते हैं. मन करता है, जमीन मे गाढ दूँ। दोस्त मिलन बहुत ही…Read More »

हे राधा पुकार लो हमारा नाम

कोई आवाज नहीं की हे राधा पुकार लो नाम हमारा.. _कब से हम तुम्हारे है.. कोई आवाज नहीं की.. चुपके से तुमपे दिल हारे है….!!! हे राधा बहुत ढूंढा है तुम्हें हे राधा बहुत ढूंढा है तुम्हें ख़्वाबों ख़्यालों में. पर जानते…Read More »

गरीब आदमी कि दर्द

वृद्धाश्रमों में किस की “मां” चारों तरफ “जय माता दी-जय माता दी” छाई हुई है… फिर ये वृद्धाश्रमों में किस की “मां” आई हुई है …? फुटपाथ पर सो जाता कोई चादर समझ के खींच ना ले फिर से ‘ इसलिए मैं…Read More »

दिल में माँ-बाप के

जब बच्चे कहते हैं दिल में माँ-बाप के हजारों सुईया चुभ जाती हैं। जब बच्चे कहते हैं , तुमने आज  तक मेरे लिए किया ही क्या है  !!! माँ नहीं रहती तो घर खाली सा लगता घल में चाहे कितने भी लोग…Read More »

मेरी मां तो आज तक

रोटी एक मागता हूँ दो दे देती मेरी मां तो आज तक अनपढ़ हैं । खाते समय रोटी एक मागता हूँ तो दो लाकर दे देती हैं। सन्नाटा छा गया सन्नाटा छा गया बटवारे के किस्से में । जब बुढि मां ने…Read More »