Tag: broken heart shayri

ज़िक्र तुम्हारा ही चल रहा था

यूँ ही नहीं मुस्कुराए हम ज़िक्र तुम्हारा ही चल रहा था मन … यूँ ही नहीं मुस्कुराए हम… दिल में ही रहो दिल में ही रहो मन … बाहर गर्मी बहुत ज्यादा है। तुम सा हसीन इस जमाने मे नहीं तुम सा…Read More »

डरता हूँ तुम्हारे बेपनाह प्यार से

तुम्हारे बे‘पनाह प्यार से डरता हूँ तुम्हारे बेपनाह प्यार से … क़तरा भर भी कम हुआ तो , बर्दाश्त नहीं होगा … दिल से खेलना लोगो का पसंदीदा खेल दुनिया में कई तरह के खेल खेले जाते हैं , मगर भावनाओं और…Read More »

बस आखरी बार इस तरह मिल जाना

इस तरह मिल जाना बस आखरी बार इस तरह मिल जाना , मुझ को रख लेना या मुझ में ही रह जाना … मोहब्बत एक कटी पतंग है मोहब्बत एक कटी पतंग है जनाब .., गिरती वही है , जिसकी छत बड़ी…Read More »

होठ उसके चेहरे पर कुछ यूं नजर आते

होठ उसके चेहरे पर होठ उसके चेहरे पर कुछ यूं नजर आते है। दूध में रखी हो जैसे दो पत्तियां गुलाब की।। मैं हजारों में तन्हा मेरा और चान्द के बीच का रिश्ता , करीब करीब मिलता जुलता है। चान्द तारों में…Read More »

इन धड़कनो को जब भी तेरी याद आती हैं

जब भी तेरी याद आती इन धड़कनो को जब भी तेरी याद आती हैं , वक़्त कोई भी हो , मेरी बेचैनी अपनी सारी हदे पार कर जाती हैं…. यकीनन टूटना ही पड़ेगा किसी  के अंदर ज्यादा डूबोगे  तो यकीनन टूटना ही …Read More »

कितनी मीठी मीठी बातें है तेरी

मीठी मीठी बातें तेरी कितनी मीठी मीठी बातें है तेरी , और  कितना कड़वा दिल  निकला  तेरा .. .. मेरे हर हिस्से में तेरी ही जिक्र जहाँ से तेरा जी चाहे वहाँ से मेरी जिंदगी देख लें  , मेरे जिंदगी के हर…Read More »

मौत भी गले लगाकर वापिस चली गई

अभी नही मरोगे तुम मौत भी मुझे गले लगाकर वापिस चली गई बोली… तुम अभी नही मरोगे प्यार किया है ना अभी और तडपोगे… “हां में हां” मिला दिया करो मिलावट का दौर है मन … “हां में हां” मिला दिया करो…Read More »

कभी तो कोई ख़ुशी चखा ऐ ज़िंदगी

कोई ख़ुशी चखा ऐ ज़िंदगी कभी तो कोई ख़ुशी चखा ऐ ज़िंदगी… तुझसे किसने कह दिया के हमारा व्रत है… ज़िन्दगी कभी ना मुस्कुरायी बचपन की तरह मिट्टी भी जमा की…. और खिलौने भी बना कर देखे….. ज़िन्दगी कभी ना मुस्कुरायी फिर……Read More »

चलो थोड़ी मुस्कुराहट बाँटते है

थोड़ी मुस्कुराहट बाँटते है चलो! थोड़ी मुस्कुराहट बाँटते है. . थोड़ा दुख तकलीफों को डाँटते है. . . क्या पता ये साँसो की चोरी कब हो जाए , क्या पता ‘जिन्दगी की चरखी’ से डोरी कब खत्म हो जाए। ख्वाबों में जीता…Read More »

बड़ी अजीब सी मोहब्बत थी तुम्हारी

अजीब सी मोहब्बत थी बड़ी अजीब सी  मोहब्बत थी  तुम्हारी.. पहले पागल किया.. फिर  पागल कहा.. फिर  पागल समज कर  छोड़ दिया.. उस पगली को क्या पता उस पगली को क्या पता जिस मंदिर में वो मेरी मौत की दुआ करती है,…Read More »