By | July 5, 2019
Spread the love

मैं रोज़ कहता हूँ

दिल हर रोज़ पूछता है,, तेरे बारे में …

मैं रोज़ कहता हूँ … बस आती होगी …

मैं रोज़ कहता हूँ

तेरा मामला खुदा पर छोड़ दिया

दवा से मुस्किल का हल न हुआ , तो दुआ पर छोड़ दिया …!!!

तेरा मामला मैंने खुदा पर छोड़ दिया …

 तेरा मामला खुदा पर छोड़ दिया

इन्तजार में उनके खड़े

इन्तजार में उनके खड़े हैं हम,
उन्हें लगता मोहब्बत भुल गए हम।

इन्तजार में उनके खड़े

न जाने ये कैसी महक

बस गयी है मेरे, रोम रोम में न जाने ये कैसी महक​ ..

कोई भी खुश्बू मैं लगाऊं, तुम्हारी ख़ुश्बू ही आए।।।.

न जाने ये कैसी महक

हो गये गुलाब से हम

महक रहे हैं फिजाओ में बेहिसाब से हम,,

नजदीक आ कर तेरे, हो गये गुलाब से हम.।।।

हो गये गुलाब से हम

आँसुओ अलग रहना मुझसे

आँसुओ तुम जरा , अलग रहना मुझसे ..

उसने कल मुझको, तन्हा बुलाया है ..

 आँसुओ अलग रहना मुझसे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *