By | July 5, 2019
Spread the love

मेहंदी से भरे दोनो हाथ

कितना हसीन बहाना मिला,

वो मेहंदी से भरे दोनो हाथ दिखाकर बोले …

जरा मेरे बालों को कानो के पीछे लगा दीजिये न …

मेहंदी से भरे दोनो हाथ

तेरा महबूब कहाँ है

हम गुजरे भी तो किस गली से …?
शहर की हर गली हमसे पूछती है, तेरा महबूब कहाँ है …

तेरा  महबूब कहाँ है

कहानी अभी खत्म कहाँ हुई

मगर कहानी अभी खत्म कहाँ हुई ? आपने तो अभी अधूरी ही सुनाए !!!

हाँ, मेरी जिन्दगी भी तो अधूरी ही हैं ” तुम्हारे बिना ” …

कहानी अभी खत्म कहाँ हुई

खुदा की रहमत रही

खुदा की रहमत रही, अगर जिंदगी दोबारा मिली ,,

तो तुझे अपने तकदीर में जरुर लिखवा कर आएंगे …

खुदा की रहमत रही

तेरी ख्वाईश सुनी गई

ये अलग बात है कि , तेरी ख्वाईश सुनी गई ,,

वर्ना , खुदा तो मेरा भी वही था !

तेरी ख्वाईश सुनी गई

तेरे हुस्न की खबर

ये आईने ना दे सकेंगे , तुझे तेरे हुस्न की खबर ,,
कभी आकर मेरी आँखों से पूछो, कि कितनी हसीन हों तुम …

तेरे हुस्न की खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *